ड्रिलः 'भूकंप का जबरदस्त झटका, 138 की मौत, 171 गंभीर घायल'

नई दिल्ली (23 फरवरी): भूकंप का जबर्दस्त झटका आते ही उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा में आपदा आन पड़ी। खतरे व आपदा के संकेत के तौर पर नगरपालिका का साइरन बज उठा और निर्देश मिलते ही राहत व बचाव दल आपदा प्रभावित क्षेत्रों में दौड़ पड़े। प्रभावित क्षेत्रों से शवों व घायलों को निकालने का काम आरंभ हो गया। इस हादसे में काल्पनिक तौर पर जिले में 138 लोगों की मौत हो गई और 171 गंभीर घायल हो गए। जी हां, ये भूकंप आने की मौक ड्रिल थी।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण भारत सरकार के सहयोग और आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास विभाग उत्तराखंड के निर्देश पर जिला प्रशासन ने यहां बुधवार को इंसीडेंट कमांड सिस्टम पर आधारित भूंकप का मॉक ड्रिल किया गया। जिसमें टास्क फोर्स, एसडीआरएफ, सेना, आइटीबीपी के जवानों, एनएसएस, एनसीसी के स्वयंसेवकों, होमगार्ड, पीआरडी के जवान, स्वयंसेवी संस्थाओं व चिकित्सा टीम ने राहत व बचाव कार्य में अहम् भूमिका निभाई। अधिकारियों ने पूरी व्यवस्था की देखरेख व अपनी अपनी जिम्मेदारी निभाई। मॉकड्रिल की कहानी में माना गया कि रिक्टर पैमाने पर 7.02 तीव्रता का भूकंप का झटका आया, जिसका केंद्र चमोली जनपद के हैलन नामक स्थान पर था।