उन्नाव गैंगरेप: BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर SSP ऑफिस पहुंचे, सरेंडर किए बिना लौटे

लखनऊ (11 अप्रैल): उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से बीजेपी विधायक और रेप मामले में आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर पर शिकंजा कसता नजर आ रहा है। लखनऊ रेंज के एडीजी राजीव कृष्ण ने उन्नाव से लौटकर अंतरिम रिपोर्ट डीजीपी को बुधवार शाम सौंप दी है। ये रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दी गई है। सूत्रों के मुताबिक एसआईटी को जांच में आरोपी विधायक के खिलाफ गैंगरेप के पर्याप्त सबूत नहीं मिले हैं। हालांकि रिपोर्ट में एसआईटी ने माना कि भाजपा विधायक के चलते जांच प्रभावित हुई है। 

इस बीच आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने बुधवार देर रात लखनऊ में सरेंडर करने के लिए एसएसपी ऑफिस पर पहुंचे। एसएसपी के न मिलने पर विधायक वापस आ गए। सेंगर ने कहा कि मुझ पर बार-बार फरार होने के आरोप लगाए जा रहे थे। इसलिए मैं सरेंडर करने गया था। लेकिन एसएसपी मौजूद नहीं थे।

वहीं एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि इस मामले की जांच कर रही पुलिस ने कई अनियमितताएं कीं। रिपोर्ट में पुलिस को दोषी ठहराते हुए कहा गया कि विधायक के भाई के पक्ष में एकतरफा जांच की गई।

इसके अलावा पीड़िता और उसके परिवार के बयान में भी अंतर पाया गया है। एसआईटी ने गैंगरेप मामले में आरोपी विधायक से बिना पूछताछ किए अपनी अंतरिम रिपोर्ट सूबे के डीजीपी को सौंप दी है। माना जा रहा कि रिपोर्ट मिलने के बाद विधायक कुलदीप सेंगर पर मामला दर्ज हो सकता है। पांच सदस्यों की एसआईटी ने पीड़िता और उसके परिवार के बयान दर्ज किए हैं. अब ये रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपी जाएगी।

रेप मामले में पीड़िता के चाचा ने कहा, 'मैं चाहता हूं कि इस केस की सीबीआई जांच की जाए। यदि मामले में एसआईटी आरोपी को शाम तक गिरफ्तार कर लेती है तो हमारा विश्वास प्रशासन के प्रति बरकरार रहेगा। हम तब तक दिल्ली नहीं जाएंगे जब तक इस मामले का कोई परिणाम नहीं सामने आ जाता है।'