BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय का MLA बेटा गिरफ्तार, अधिकारी की पिटाई का आरोप

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 जून): इंदौर नगर निगम के अधिकारी की बल्ले से पिटाई पर भारतीय जनता पार्टी के विधायक आकाश विजयवर्गीय को मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आकाश विजयवर्गीय के साथ ही 10 अन्य लोगों के FIR दर्ज हुई है। इनके खिलाफ आईपीसी की धारा 353, 294, 323 506, 147, 148 के तहत एफआईआर दर्ज हुई है। पिटाई पर मीडिया से बात करते हुए विधायक ने कहा कि ये तो सिर्फ शुरुआत है, हम इस भ्रष्टाचार और गुंडाई को खत्म कर देंगे। हमारी कार्रवाई की लाइन- आवेदन, निवेदन और फिर दे दनादन है। 

मारपीट का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में साफ दिख रहा है कि आकाश निगम अधिकारी पर किस तरह क्रिकेट बैट से हमला कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक इंदौर में निगम की टीम एक अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंची थी। इस दौरान विधायक आकाश विजयवर्गीय भी वहां पहुंच गए। उन्होंने निगम अधिकारियों को धमकी देते हुए वहां से चले जाने को कहा। इसके बाद निगम के अधिकारियों और विधायक के बीच जमकर विवाद हो गया और मारपीट होने लगी। इसके बाद गुस्साए आकाश ने क्रिकेट बैट से निगम अधिकारी की पिटाई कर दी। बता दें की आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ FIR दर्ज़ हो गई है। 

बताया जा रहा है कि गंजी कंपाउंड क्षेत्र में एक जर्जर मकान को तोड़ने के लिए निगम की टीम पहुंची थी। इस दौरान तीन नंबर क्षेत्र से विधायक आकाश विजयवर्गीय भी वहां पहुंच गए। उन्होंने निगम अधिकारियों को धमकी देते हुए कहा कि आप 5 मिनट में यहां से नहीं गए तो आगे जो होगा इसकी जिम्मेदारी आपकी होगी। इसके बाद उनके साथ मौजूद लोगों ने पोकलेन की चाबी भी निकाल ली। इसके बाद निगम के अधिकारियों और विधायक के बीच जमकर विवाद हो गया और मारपीट होने लगे। आकाश विजयवर्गीय ने पोकलेन मशीन पर पथराव कर उसे फोड़ दिया।

कमलनाथ सरकार में मंत्री जीतू पटवारी ने इस वीडियो के आने के बाद प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी संविधान को नहीं मानती है। बंगाल में इनके पिता भी इसी तरह की हिंसा को बढ़ावा दे रहे हैं, अब यहां पर बेटा भी ऐसा कर रहा है। दूसरी ओर भाजपा नेता ने आकाश विजयवर्गीय का बचाव किया है। 

बीजेपी नेता हितेश वाजपेयी बोले कि वीडियो में जो दिख रहा है उस पूरे मामले की तह में जाना जरूरी है। पहले ये अधिकारी 25-50 हजार रुपये की रिश्वत लेकर अतिक्रमण करवाते हैं लेकिन बारिश के आते ही हटाने पहुंच जाते हैं।