एयरफोर्स ने माना, AN-32 पर सवार 29 लोग डेड

नई दिल्ली (15 सितंबर): एयर फोर्स के प्लेन AN-32 के साथ लापता होने के 55 दिन बाद सभी 29 लोगों के मारे जाने की घोषणा कर दी गई है। खबर है कि इन लोगों की फैमिली से कहा गया है कि वे अपने रिलेटिव्स को डेड मान लें।

आपको बता दें कि 22 जुलाई को ट्रांसपोर्ट प्लेन AN-32 ने चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर के लिए उड़ान भरी थी। माना जा रहा है कि यह प्लेन खराब मौसम का शिकार हो गया।

कोर्ट ऑफ इन्क्वॉयरी में क्या नतीजा सामने आया... - सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन के साथ ही मौजूद सबूतों की जांच करने के बाद कोर्ट ऑफ इन्क्वॉयरी इस नतीजे पर पहुंची है कि लापता प्लेन के साथ गायब हुए लोगों के जिंदा होने की संभावना नहीं है। - 'प्लेन में कोई अंडरवाटर लोकेटर सिस्टम नहीं था, जिससे इसकी तलाश बेहद मुश्किल है।' - इंडियन एयरफोर्स की तरफ से फैमिलीज को लेटर लिखकर इस बारे में इन्फॉर्म किया गया है। - लेटर के साथ presumption of death का एक सर्टिफिकेट भी लगाया गया है। - लापता लोगों की फैमिली से कहा गया है कि वे इंश्योरेंस और अन्य एडमिनिस्ट्रेटिव काम के लिए आगे बढ़ सकते हैं। - लेटर में यह भी कहा गया है कि प्लेन के मलबे की तलाश के लिए करीब 2,17,800 स्क्वायर नॉटिकल मील का एरिया कई बार खंगाला गया।

कैसे हुआ था हादसा? - प्लेन ने 22 जुलाई को चेन्‍नई के निकट तांबरम एयरबेस से सुबह 8:30 बजे उड़ान भरी थी और इसे 11:45 बजे पोर्ट ब्‍लेयर पहुंचना था। - टेक ऑफ के करीब 16 मिनट बाद 8:46 बजे आखिरी बार प्लेन से कॉन्टेक्ट किया गया था। - सुबह 9:12 बजे समुद्र के ऊपर पहुंचने के बाद यह अचानक रडार से गायब हो गया था। - बाद में माना गया कि यह प्लेन खराब मौसम का शिकार हो गया।