आज देश कर रहा है उस मिसाइल मैन को याद, जिसके नाम से थर्राता था पाक

नई दिल्ली ( 15 अक्टूबर ): पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को देश आज उनके 85वें जन्मदिवस के मौके पर याद कर रहा है।  वे भारत के मिसाइल मैन कहे जाते हैं। भारत को बैलेस्टिक मिसाइल और लॉन्चिंग टेक्नोलॉजी में आत्मनिर्भर बनाने के कारण ही एपीजे अब्दुल कलाम का नाम मिसाइल मैन पड़ा। 1982 में कलाम को डीआरडीएल (डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट लेबोरेट्री) का डायरेक्टर बनाया गया। जिसके बाद कलाम ने तब के रक्षामंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार डॉ. वीएस अरुणाचलम के साथ इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम (आईजीएमडीपी) का प्रस्ताव तैयार किया। इसी की बदौलत उन्होंने भारत के लिए पृथ्वी, त्रिशूल, आकाश, नाग, ब्रह्मोस समेत कई मिसाइल बनाई। वो कलाम ही थे जिनके डायरेक्शन में देश को पहली स्वदेशी मिसाइल मिली।

इसलिए कलाम से कांपता था पाकिस्तान 

पृथ्वी 1  परीक्षण -25 फरवरी 1988                                                                                                                                                               1000 kg बारूद ले जाने में सक्षम

पृथ्वी-2 (एयरफोर्स वर्जन) परीक्षण - 27 जनवरी 1996  रेंज 250 किमी  500 किलो बारूद ले जाने में सक्षम 

सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल  परीक्षण -12 जून 2001   रेंज 290 किमी  300 किलो बारूद ले जाने में सक्षम    आर्मी एवं नेवी के लिए बनाया गया। 

पृथ्वी 3 (नेवी वर्जन) परीक्षण -23 जनवरी 2004  रेंज- 350 किलो मीटर  1000 kg बारूद ले जाने में सक्षम

धनुष मिसाइल का अपग्रेड वर्जन  परीक्षण -5 अक्टूबर 2012  रेंज 250 से 350 किमी  500 किलो हथियार ले जा सकता है  खासतौर पर नेवी के लिए बनाया गया। 

आकाश मिसाइल  सर-फेस-2 एयर मिसाइल  1990 में पहला परीक्षण किया गया।   2009 में सेना में शामिल किया गया।   700 किलो  वजनी है ये मिसाइल   55 किलो का पेलोड ले जा सकती है।   आर्मी एवं एयरफोर्स के लिए बना है। 

त्रिशुल मिसाइल  इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलेपमेंट प्रोग्राम के तहत बनी त्रिशुल मिसाइल कम दूरी का जमीन से हवा में मार करने में सक्षम है। 1989 में इसका पहला परीक्षण किया गया था। 

अग्नि मिसाइल अग्नि 1-रेंज 700 से 1250 किमी, परमाणु सामग्री ले जाने में सक्षम। 28 मार्च 2010 को पहला परीक्षण।   अग्नि 2- रेंज 2000 से 3000 किमी 1000 kg तक परमाणु सामग्री ले जाने में सक्षम।  अग्नि 3-रेंज 3500किमी 600 से 1800 किलो तक परमाणु सामग्री ले जाने में सक्षण। जुलाई 2006 में सफल परीक्षण।  अग्नि 4- 4000 किमी परमाणु सामग्री ले जाने में सक्षण।  अग्नि 5-रेंज 5500 से 7000 किमी अप्रैल 2012 में सफल परीक्षण 

नाग मिसाइल नाग मिसाइल हल्के हथियारों में आती है। नाग को टैंक भेद मिसाइल कहते हैं।