वीरेंद्र सहवाग का सनसनीखेज खुलासा, कोच नहीं बन पाने की बताई ये बड़ी वजह

नई दिल्ली ( 16 सितंबर ): भारतीय टीम के पूर्व सलामी और विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने हेड कोच नहीं बन पाने को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया है। वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि बीसीसीआई में उनकी कोई सेटिंग नहीं थी, इसलिए वह हेड कोच नहीं बन पाए। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि वह दोबारा कोच पद के लिए अप्लाई नहीं करेंगे। 

एक चैनल को दिए इंटरव्यू में वीरेंद्र सहवाग ने कहा, "मैंने अपनी मर्जी से नहीं, बल्कि बीसीसीआई के मेंबर्स के कहने के बाद इस पोस्ट के लिए अप्लाई किया था।' इस बार ऐसा माना जा रहा था कि सहवाग भारतीय के मुख्य कोच बन जाएंगे, लेकिन अचानक रवि शास्त्री ने आवेदन दिया और वे बाजी मारते हुए टीम के कोच बन गए, जबकि सहवाग को निराशा हाथ लगी। सहवाग ने कहा, 'देखिए मैं कोच इसलिए नहीं बन पाया, क्योंकि जो को‍च चुन रहे थे, उनसे मेरी सेटिंग नहीं थी।'

उन्होंने कहा, 'मैंने कभी इंडियन क्रिकेट टीम का कोच बनने के बारे में नहीं सोचा था। बीसीसीआई के सेक्रटरी अमिताभ चौधरी और जीएम (गेम डिवेलपमेंट) एम.वी. श्रीधर मेरे पास आए और मुझसे ऑफर के बारे में विचार करने के लिए कहा। मैंने अपना वक्त लिया और उसके बाद इस पद के लिए अप्लाई किया।'

सहवाग ने कहा, मैंने इस पद के लिए आवेदन करने से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली से भी चर्चा की थी। उन्होंने भी इस पर रजामंदी दिखाई जिसके बाद ही सहवाग ने आवेदन दिया था, वास्तव में उनकी इस पद में कोई रूचि नहीं थी।

वीरू ने कहा, मैंने सोचा कि जब वे मुझसे अनुरोध कर रहे हैं तो मुझे उनकी मदद करनी चाहिए, मेरी खुद से कभी कोच बनने की इच्छा नहीं रही थी और भविष्य में भी नहीं रहेगी।