खरीददारों के लिए बड़ी खबर! गलत विज्ञापन दिखाने पर होगी 2 से 5 साल की जेल

नई दिल्ली (27 अगस्त): केंद्र सरकार ने भ्रमक विज्ञापन फैलाकर लोगों को चुना लगाने वाली कंपनियों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है। सरकार ने इसके लिए कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 1986 में बदलाव करने का फैसला किया है।

लोगों को झांसा देकर सामान बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई करने के लिए विधेयक तैयार किया है। इस विधेयक के तहत पहली बार गलती करने पर 2 साल की सजा और 10 लाख रुपए का जुर्माने का प्रावधान है। वहीं दूसरी बार गलती करने पर 5 साल कैद की सजा और 50 लाख रुपये तक जुर्माने प्रावधान है।

आपको बता दें कि इससे पहले अगस्त में उपभोक्ता संरक्षण विधेयक को जांच के लिए संसद की स्थायी समिति के पास भेजा जा चुका है। अब इसे कैबिनेट के अलावा दूरसंचार मंत्रालय, वित्तीय सेवा विभाग सहित संबंधित मंत्रालयों को भेजा गया है।

इस विधेयक के पास हो जाने के बाद अपभोक्ता संरक्षण अधिनियम की धारा 75(A) के तहत भ्रामक विज्ञापन देने पर जिम्मेदार व्यक्ति को धारा 75(B) की तर्ज पर बिचौलिए की तरह सजा व जुर्माना होगा। वहीं विधेयक के मुताबिक धारा 75(E) के तहत झूठी गारंटी और गुणवत्ता में कमी पर 10 लाख तक जुर्माने का प्रावधान होगा।