Blog single photo

सरकारी हॉस्टल में नाबालिग छात्रा ने दिया बच्चे को जन्म,तीन अन्य प्रेग्नेंट

ओडिशा में अलग-अलग जगह पर सरकारी आवासीय विद्यालयों में रहने वाली दो छात्राओं सहित कुल तीन नाबालिग लड़कियों के प्रेग्नेंट होने का मामला सामने आया है। इसके अलावा एक छात्रा ने होस्टल में बच्चे को जन्म भी दिया है। पुलिस के मुताबिक ये घटनाएं ढेंकनाल, कालाहांडी और जाजपुर जिले में सामने आई हैं।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 जनवरी):  ओडिशा में अलग-अलग जगह पर सरकारी आवासीय विद्यालयों में रहने वाली दो छात्राओं सहित कुल तीन नाबालिग लड़कियों के प्रेग्नेंट होने का मामला सामने आया है। इसके अलावा एक छात्रा ने होस्टल में बच्चे को जन्म भी दिया है। पुलिस के मुताबिक ये घटनाएं ढेंकनाल, कालाहांडी और जाजपुर जिले में सामने आई हैं।

ढेंकनाल के सप्तसजया में आवासीय स्कूल के हेडमास्टर जनार्दन समाल ने शुक्रवार को सदर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि आठवीं कक्षा की छात्रा गर्भवती पाई गई है। ढेंकनाल के उप-विभागीय पुलिस अधिकारी एस के करीम ने बताया कि हेडमास्टर की शिकायत के आधार पर 14 वर्षीय छात्रा के बयान दर्ज किए गए और जाजपुर जिले के कालियापानी के 15 वर्षीय एक किशोर को पकड़ा गया है। बता दें कि पिछले सप्ताह ही कंधमाल जिले में एक ऐसी ही घटना सामने आई थी, जहां अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातीय विकास विभाग द्वारा संचालित एक आवासीय स्कूल की 14 वर्षीय छात्रा के हॉस्टल में ही एक बच्चे को जन्म की घटना सामने आई थी। नाबालिग छात्रा ने 12 जनवरी को बच्चे को जन्म दिया था।

इस घटना की जानकारी फैलने पर भाजपा कार्यकर्ताओं और स्थानीय निवासियों ने विरोध प्रदर्शन किया और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। अधिकारियों ने बताया कि एक अन्य घटना में कालाहांडी जिले में नरला क्षेत्र में नवोदय आवासीय स्कूल की कक्षा नौ की छात्रा के कथित तौर पर गर्भवती होने और उस पर गर्भपात की दवा लेने का संदेह है। कालाहांडी में ही एक अन्य घटना में 24 साल के एक युवक को 13 साल की बच्ची से दुष्कर्म करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. इस घटना में लड़की गर्भवती हो गई थी। वहीं जाजपुर जिले में 15 साल की एक लड़की ने बृहस्पतिवार को कलिंग नगर क्षेत्र में एक बच्चे को जन्म दिया। पुलिस ने बताया कि लड़की और बच्चे दोनों का जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है, पुलिस मामले की जांच कर रही है।

गौरतलब है कि कंधमाल जिल की घटना में होस्टल में बच्चे के जन्म देने के बाद नाबालिग छात्रा को बाहर निकाल दिया गया था। इसके बाद छात्रा ने अपनी बेटी के साथ रात में जंगल में शरण ली। जब पुलिस को इसकी जानकारी मिली तो नाबालिग को ढूंढ़ा गया और दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिसके बाद अस्पताल में छात्रा की बेटी की मौत हो गई।

Tags :

NEXT STORY
Top