नीतीश के 'जय श्रीराम' बोलने वाले मंत्री ने इस्लाम में दोबारा दाखिले के लिए पढ़ा


पटना (30 जुलाई): 'जय श्रीराम' का नारा लगाकर सुर्खियों में आने वाले नीतीश कुमार के मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने आखिरकार माफी मांग ली है। खुर्शीद ने नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद यह फैसला लिया। उन्होंने कहा कि यदि उनके 'जय श्रीराम' नारे लगाने से किसी की भावना को ठेस पहुंची है तो वे माफी मांगते हैं।

इस मामले में इमारत-ए-शरिया में मंत्री खुर्शीद अहमद ने माफीनामा पर दस्तखत किया। इस दौरान मुफ्ती सुहैल ने उन्हें दोबारा कलमा पढ़ाते हुए इस्लाम में दाखिल किया। काजी मुफ्ती सोहैल कासमी ने फतवा खत्म करने के बाद कहा कि मंत्रीजी ने अपने बयान पर शर्मिंदगी जताते हुए माफी मांगी है।

दरअसल, 'जय श्रीराम' नारे लगाने पर खुर्शीद के खिलाफ इमारत-ए-शरिया के काजी ने मुफ्ती सुहैल अहमद कासमी ने फतवा जारी किया था। काजी ने खुर्शीद को इस्लाम से खारिज और मुर्तद करार दिया था।

मुफ्ती के मुताबिक, जो शख्स 'जय श्री राम' का नारा लगाए और कहे कि मैं रहीम के साथ-साथ राम की भी पूजा करता हूं और मैं हिन्दुस्तान के सभी धार्मिक स्थानों पर मत्था टेकता हूं। ऐसा शख्स इस्लाम से खारिज और मुर्तद है।