मोदी सरकार के मंत्री बोले, 'राम राज्य' नहीं 'अशोक राज्य' बदलेगी तकदीर

नई दिल्ली(15 अप्रैल): संविधान के निर्माता डॉ. भीम राव अंबेडकर की 125वीं जयंती पर जमकर राजनीति हुई। भाजपा, कांग्रेस, बसपा सभी अपने को अंबेडकर से जुड़ा हुआ पेश कर रही थीं। इसी मौके पर केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने दावा किया कि अब 'राम राज्य' से नहीं 'अशोक राज्य' से काम चलेगा। यानि वो मौर्य साम्राज्य के महान शासक सम्राट अशोक की बात कर रहे थे।

वहीं गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने भी कहा कि सम्राट अशोक की जयंती के मौके पर राष्‍ट्रीय अवकाश होना चाहिए। आंबेडकर की जयंती के मौके पर एक कार्यक्रम के दौरान उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जो लोग मौर्य सम्राट अशोक के वंशज हैं, उन्‍हें एकजुट होकर बाबा साहेब अंबेडकर की जयंती को राष्‍ट्रीय समारोह व एक राजपत्रीय अवकाश के रूप में मनाने की मांग करनी चाहिए। 

उपेंद्र कुशवाहा ने बाबा साहेब अंबेडकर पर बोलते हुए कहा कि बाबा साहेब ने हमें संविधान दिया और उन जैसे लोगों की वजह से हम जैसे लोगों को मंच पर बोलने का मौका मिल रहा है। कुशवाहा ने कहा कि भले ही लोग हमारी इस बात का खंडन करें या फिर मजाक उड़ाएं, लेकिन लोगों की यह सब बातें उन्हें अच्छा करने से नहीं रोक सकती।