AAP पर केंद्र की नजर टेढ़ी, चंदा और चंदा देने वालों का मांगा ब्यौरा


नई दिल्ली (5 मई): आम आदमी पार्टी की मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। पंजाब, गोवा विधानसभा के बाद दिल्ली एमसीडी चुनाव में हार, फिर पार्टी में घामासान अब गृह मंत्रालय का नोटिस। गृह मंत्रालय ने नोटिस भेजकर आम आदमी पार्टी से 15 दिनों में फंडिंग का ब्यौरा मांगा है। गृहमंत्रालय ने आप से चंदे का आंकड़ा और चंदा देने वाली कंपनी का नाम साझा करने को कहा गया है। इसके साथ ही कंपनी के शेयर होल्डर्स और इसके फॉरन इक्विटी के बारे में जानकारी मांगी गई है। गृहमंत्रालय ने आप को ये नोटिस  3 मई को भेजा है जो उसे आज मिला है।


आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता चड्ढा ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा कि यह भारतीय लोकतंत्र के लिए बेहद दुखद है कि केंद्र सरकार ने आप को टारगेट करने के लिए अपनी सभी शाखाओं का इस्तेमाल कर लिया है। राघव ने कहा कि एक दिन पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्रालय के ऑफिस में सीबीआई रेड डालती है और दूसरे दिन गृह मंत्रालय का नोटिस आ जाता है। साफ है कि यह राजनैतिक विद्वेष की भावना से किया जा रहा है। आप प्रवक्ता ने कहा कि ये सिर्फ आप से डरते हैं।


साथ ही उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय ने फरवरी 2015 में हाई कोर्ट को बताया था कि आप की फंडिंग में कोई गड़बड़ी नहीं है। तब गृह मंत्रालय के वकील ने कोर्ट में कहा था कि एफसीआरए के उल्लंघन के आरोपों पर आप के खिलाफ कुछ नहीं मिला है। साथ ही यह कहा था कि आप ने विदेश फंडिंग के मामले में किसी भी नियम का उल्लंघन नहीं किया है।