जानें कौन है देश का सबसे गरीब सांसद, लोग बोलते हैं, 'ओडिशा का मोदी'

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (27 मई): लोकसभा चुनाव में ओडिशा की बालाशोर सीट से इस बार बीजेपी के प्रताप चन्द्र सारंगी को जीत मिली है। उन्होंने बीजेडी के रबिन्द्र कुमार जेना को 12,956 वोटों से हराया. साल 2014 में वो हार गए थे। लेकिन इस बार उन्होंने आखिरकार जीत दर्ज की है। सोशल मीडिया पर इन दिनों प्रताप चंद्र सारंगी की चर्चा है। लोग उन्हें ओडिशा का मोदी कहने लगे हैं। सारंगी कई सालों से समाजसेवा में लगे हैं। इसके अलावा उन्होंने शादी भी नहीं की है। सारंगी कुटिया मे रहते है और उनकी आर्थिक हालत बेहद कमजोर है, लेकिन इलाके की जनता पर उनकी गहरी पकड़ है।

प्रताप सारंगी का जन्म बालासोर के गोपीनाथपुर में एक गरीब परिवार में हुआ। उन्होंने उत्कल यूनिवर्सिटी के फकीर कॉलेज से ग्रेजुएशन किया, कहा जाता है कि प्रताप सारंगी बचपन से ही बेहद आध्यात्मिक थे। वो रामकृष्ण मठ में साधु बनना चाहते थे। इसके लिए वो कई बार मठ भी गए थे। लेकिन जब मठ वालों को पता लगा कि उनके पिता नहीं है और उनकी मां अकेली हैं, तो मठ वालों ने उन्हें मां की सेवा करने को कहा। उन्होंने शादी नहीं की है। उन्होंने बालासोर और मयूरभंज जिले के आदिवासी इलाकों में कई स्कूल बनवाएं है,  वो आज भी साइकिल से चलते हैं। कहा जा जाता है कि वो नरेंद्र मोदी के करीबी हैं और जब भी प्रधानमंत्री ओडिशा जाते हैं तो उनसे मुलाकात भी करते हैं।

बता दें कि बालासोर लोकसभा सीट से 1951, 1957 और 1962 में ग्रेस को कामयाबी मिली थी। 1967 में यह सीट कांग्रेस के हाथ से निकली और सफलता कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया को मिली। हालांकि 1971 के चुनाव में कांग्रेस ने फिर इस सीट पर कब्जा जमा लिया। 1977 में एक बार फिर कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया यहां से जीती। इसके बाद के दो चुनावों 1980 और 1984 में यहां से कांग्रेस जीत हासिल की। 1991 और 1996 में भी इस सीट पर कांग्रेस को जीत मिली थी। 1989 में इस सीट से जनता दल को कामयाबी मिली।

1998 के चुनाव में बीजेपी यहां से पहली बार जीती और इसके बाद 1999, 2004 में उसने अपनी कामयाबी को दोहराया। 2009 में कांग्रेस के श्रीकांत कुमार जेना चुनाव जीते थे। 2014 में यहां बीजेडी के रबींद्र कुमार जेना जीते थे। जेना को 4,33,768 वोट मिले थे जबकि बीजेपी के प्रताप सारंगी को 2,91,943 वोट मिले थे।