हिंसा पीड़ितों के परिवार से मिली महबूबा, की सहयोग की मांग

नई दिल्ली (24 जुलाई): जम्मू कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने घाटी के हिंसा पीड़ितों से मिलीं। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हत्याओं को ‘गौरवान्वित’ करने वाले तत्वों और ‘कब्रों पर राजनीति करने वाले’ पीड़ितों के परिजनों के बारे में कभी नहीं सोचते। उनकी परेशानियों को नजर अंदाज़ कर देते हैं। उन्होंने हिंसा खत्म करने में लोगों से सहयोग करने को कहा जिससे ‘राज्य में केवल विनाश आया है।’ महबूबा ने कुपवाड़ा में प्रभावित परिवारों से मुलाकात की और उन्हें हरसंभव सहयोग देने की पेशकश की। उन्होंने कहा, ‘मैं यह देखकर दुखी हूं कि ये सभी पीड़ित लोग समाज के सबसे गरीब तबके के हैं।’ उन्होंने कहा कि हिंसा से हमारे राज्य में केवल विनाशa आया है और सैकड़ों अनाथ, वंचित और विधवाओं के रूप में त्रासदी छोड़ गया है। ये लोग किसी संस्थागत सहयोग के अभाव में दयनीय जीवन बिता रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग ‘इन हत्याओं का महिमा मंडन’ कर रहे हैं और गरीब युवकों की ‘कब्र पर राजनीति कर रहे हैं’ उन्होंने कभी भी पीड़ित परिवार की दशा पर गौर नहीं किया। उन्होंने कहा कि कश्मीर में जब भी आर्थिक गतिविधियां जोर पकड़ने लगती हैं और पर्यटकों का आवागमन बढ़ जाता है तो निहित स्वार्थ वाले कई वर्ग घातक हिंसा का षड्यंत्र करने लगते हैं और लोगों को आर्थिक विपन्नता की तरफ धकेल देते हैं। एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि हिंसा स्थानीय अर्थव्यवस्था के हर पहलू को प्रभावित करता है जहां पर्यटन और शिक्षा मुख्य निशाने पर होता है।