महबूबा का आरोप, कश्मीर में अशांति के पीछे फारूख अब्दुल्ला

नई दिल्ली ( 7 दिसंबर ): जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूख अब्दुल्ला के कश्मीर की स्वतंत्रता के समर्थन वाले बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी। महबूबा ने विपक्ष पर कश्मीर में पिछले काफी समय से चल रहे उपद्रवों की साजिश करने का भी आरोप लगाया है।

सीएम ने कहा, 'पिछले कुछ महीनों से घाटी में अशांति दौरान वाहनों पर पत्थर फेंकने, स्कूलों में आगजनी और सुरक्षा बलों के शिविरों पर हमले के लिए अपराधी अपनी मनमर्जी कर रहे थे। फारूख साहब के बयान ने यह साबित कर दिया है कि सत्ता के लिए नेशनल कांफ्रेंस किसी भी हद तक जा सकती है।' उन्होंने कहा कि कश्मीर की आजादी की लड़ाई के लिए अलगाववादी हुर्रियत कांफ्रेंस का समर्थन करने की शपथ लेकर फारूख ने इन महीनों में इस तरह की गतिविधियों में अपनी पार्टी के शामिल होने की पुष्टि कर दी है।

महबूबा ने कहा, 'अब जब घाटी के हालात फिर से सुधरने लगे हैं तो फारूख अब्दुल्ला ने फिर से अपने समर्थकों को उपद्रव मचाने को कहा है।' सीएम ने विपक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि विपक्षी दल सत्ता हथियाने के लिए किसी भी हद तक जाने, यहां तक कि लोगों की जिंदगी के साथ भी खिलवाड़ कर सकता है। उन्होंने कहा, 'सत्ता में रहने के दौरान तो अब्दुल्ला ने कहा था कि पाकिस्तान पर बम गिराया जाना चाहिए और उनके पुत्र और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला अक्सर पाकिस्तान के खिलाफ बयान जारी किया करते थे। जब वह अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में विदेश राज्य मंत्री थे तो अलग बात करते थे और अब जब सत्ता से बाहर हो गए हैं तो अलग भाषा में बात करते हैं।

गौरतलब है कि फारूख अब्दुल्ला ने अपने पिता शेख मोहम्मद अब्दुल्ला की 111वीं जयंती पर हजरतबल दरगाह में आयोजित हुए एक कार्यक्रम में हुर्रियत नेताओं से कहा था, 'हम इस आंदोलन का हिस्सा हैं। हमें अपना विरोधी न समझें। हमने जिहाद की लड़ाई लड़ी है इसलिए इस आंदोलन को आगे लेकर चलें लेकिन आगे बढ़ें हम आपके साथ हैं।'