बुरहान: 'महबूबा ने पुलिसवालों से बुरहान पर माफी मांगने को कहा'

नई दिल्ली (3 अगस्त): जम्मू और कश्मीर के मौजूदा हालत काफी खराब हैं। पिछले कुछ दिनों में सत्ताधारी पार्टी पीडीपी के तीन विधायकों के आवास पर हमले हो चुके हैं, जिनमें से एक मंत्री भी है। प्रदर्शनकरियों के हमले से घायल पुलवामा से विधायक खलील बंध 18 जुलाई से दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हैं।

सबसे ज्यादा मुश्किलें जम्मू और कश्मीर पुलिस को हो रही है। उनके घर उपद्रवियों के निशाने पर लिए जा रहे हैं। पुलिसवालों के घर पर हमले हो रहे हैं और उनके परिवारवालों को भी नहीं बख्शा जा रहा है। त्राल समेत तीन बड़े पुलिस स्टेशन बंद किए जा चुके हैं। इन पोस्ट्स पर तैनात पुलिस कर्मियों ने सीआरपीएफ शेल्टर और सेना के कैंम्पो में पनाह ले रखी है। एक सूत्र ने बताया कि पुलिस अधिकारियों ने तक अपने पहचान पत्र छुपा दिए हैं।

टाइम्स न्यूज नेटवर्क की खबर के अनुसार, मुख्यमंत्री ने सुरक्षाकर्मियों को रोडों से गायब रहने के निर्देश दिए हुए हैं। सूत्रों ने बताया ऐसा प्रदर्शनकारियों के गुस्से को ठंडा करने के लिए किया गया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पुलिस को कश्मीरी युवाओं से हिजबुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी को मारने के लिए माफी मांगने को भी कहा है। उन्होंने आगे कहा, 'सीएम की तुष्टीकरण की राजनीति के कारण पूरी घाटी जल रही है। यहां कोई कानून व्यवस्था नहीं है और हर किसी में डर और खौफ है।'