इन महिला बाइकर्स का काम जानकर चौंक जाएंगे आप...

नई दिल्ली (18 जुलाई): सरकार कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए तरह-तर‍ह का प्रयास करती रहती है, लेकिन यह मकसद तभी सफल होगा जब देश के लोग इसके प्रति जागरूक होंगे। ऐसे ही लोगों को जागरूक करने के लिए 4 महिलाओं ने मिलकर एक बाइकर्स गैंग बनाया, जो लोगों को कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ जागरूक करता है।

'बाइकिंग क्वीन्स' नामक यह गैंग अब तक 10 एशियाई देशों से होते हुए 10 हजार किलोमीटर का सफर तय कर चुका है। हाल ही में इन्होंने मलयेशिया के सिंगापुर से गुजरते हुए यह माइलस्टोन अचीव किया। यह गैंग दुनियाभर में कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ जागरुकता फैलाना चाहता है और यह तो बस शुरुआत है। 4 सदस्यों की इस टीम की लीडर हैं 40 साल की साइकलॉजिस्ट सारिका मेहता।

इस गैंग ने लैंगिक पूर्वाग्रह को दूर करने में शिक्षा के योगदान पर जोर देते हुए सिंगापुर में भारतीय उच्चायुक्त विजय ठाकुर सिंह से बात की। अपने अभियान को विश्वपटल पर ले जाने के लिए यह स्क्वॉड थाईलैंड और भूटान जैसे देशों के शिक्षण संस्थानों और गैर सरकारी संगठनों का दौरा कर चुकी है।

इनके ग्रुप को एशिया बुक ऑफ रेकॉर्ड्स ने '10 एशियाई देश कवर करने वाली पहली महिला बाइकर्स' का प्रमाण-पत्र प्रदान किया है। इस गैंग में स्वाति के साथ 27 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर युग्मा देसाई, 36 वर्षीय ट्रैवल एजेंट दुर्रिया तापिया और 31 वर्षीय एचआर प्रफेशनल ख्याति देसाई भी शामिल हैं।