WATCH: मीट की दुकान वाले अब बेचने लगे ह‍ैं फल

पारस जैन, बागपत (30 मार्च): अवैध बूचड़खानों पर योगी सरकार के हंटर से अब धीरे-धीरे मीट कारोबार से जुड़े लोग अपना पेशा बदलने लगे हैं। बागपत में कलतक मीट की दुकान चलाने वाले अब केला और संतरा बेच कर अपना पेट पाल रहे हैं।


बागपत चौक पर मिया ग्राहकों का इंतजार कर रहे हैं। दो-चार दिन पहले ही फलों का कारोबार शुरू किया है। पहले इंतजार मिया बूचड़खाने में काम करते थे, लेकिन बूचड़खाना बंद होते ही। इन्होंने ताजा फल बेंचने का काम शुरू कर दिया, जिससे परिवार की गाड़ी को खींचा जा सके।


ताबीर भाई भी पहले मीट का छोटी दुकान चलाने थे, लेकिन इनके पास लाइसेंस नहीं था। ऐसे में ताबीर भाई ने मीट का धंधा छोड़कर केला बेचना शुरू कर दिया। ताबीर अपने नए कारोबार से ही इतना कमा ले रहे हैं कि परिवार की गाड़ी को खींच सकें। साथ ही दलील दे रहे हैं कि अगर सरकार कुछ अच्छा कर रही है, तो सहयोग करना चाहिए।


दरअसल पहले अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई और फिर मीट कारोबारियों के शटर गिराने से सूबे में भैंस, बकरे और चिकन के मीट की कमी है। जिसका असर शादी-ब्याह से लेकर कारोबार तक पर साफ-साफ दिख रहा है।


वीडियो: