यूपी सरकार ने किया साफ, कार्रवाई केवल अवैध बूचड़खानों पर


लखनऊ(27 मार्च): उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ समेत कई दूसरे इलाकों में मीट मछली खाने वालों को आज दिक्कत का सामना करना पड़ेगा क्योंकि बूचड़खानों पर हो रही कार्रवाई के विरोध में मांस विक्रेताओं की हड़ताल में मटन और चिकन विक्रेताओं के बाद अब मछली कारोबारियों ने भी इस हड़ताल में शामिल होने का ऐलान किया है। प्रदेश में हड़ताल की वजह से मांस परोसने वाले होटल अब बंदी की कगार पर पहुंच गए हैं।


- यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि यह कार्रवाई केवल अवैध बूचड़खानों पर ही है। जिनके पास लाइसेंस है उन्हें डरने की जरूरत नहीं है। सरकार ने चिकन और अंडे की दुकानों को बंद करने का निर्देश नहीं दिया है। इस तरह की खबरों पर यकीन न करें।


- गौरतलब है कि मटन और चिकन विक्रेताओं के बाद अब मछली कारोबारियों ने भी इस बेमीयादी हड़ताल में शामिल होने का ऐलान कर दिया है। लखनऊ बकरा गोश्त व्यापार मण्डल के पदाधिकारी मुबीन कुरैशी ने कहा, 'हमने अपनी हड़ताल को और तेज करने का फैसला किया है। मांस की सभी दुकानें बंद रहेंगी। मछली विक्रेताओं ने भी इस हड़ताल में शामिल होने की घोषणा की है।