भारत का चीन को कड़ा जवाब, गिफ्ट के तौर पर एनएसजी की सदस्यता नहीं मांग रहा हिंदुस्तान

नई दिल्ली ( 19 जनवरी ): भारत ने गुरुवार को चीन के उस बयान का जवाब दिया जिसमें चीन ने कहा था कि एनएसजी की सदस्यता कोई विदाई तोहफा नहीं है जिसे कोई देश दूसरे को गिफ्ट करें। परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता को ओबामा का विदाई तोहफा बताए जाने के चीन के बयान पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, 'भारत तोहफा के तौर पर एनएसजी की सदस्यता नहीं मांग रहा।'

भारत ने कहा, 'भारत तोहफे के तौर पर एनएसजी की सदस्यता का इच्छुक नहीं है। हम अपने परमाणु निरस्त्रीकरण के रिकार्ड के आधार पर एनएसजी की दावेदारी कर रहे हैं।'

दो दिनों पहले चीन ने अमेरिका के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी जिसमें ओबामा सरकार की सहायक विदेश मंत्री ने कहा था कि काबिलियत रखने के बावजूद चीन की वजह से भारत को एनएसजी की सदस्यता नहीं मिल पाई।

अमेरिका ने कहा था, 'चीन बिना वजह एनएसजी में भारत की सदस्यता के रास्ते में रोड़ा अटका रहा है।' इसके बाद चीन ने अमेरिका के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि एनएसजी की सदस्यता कोई विदाई तोहफा नहीं है जिसे कोई देश दूसरे को गिफ्ट करे।

चीन के विरोध की वजह से ही भारत को एनएसजी की सदस्यता नहीं मिल पाई। चीन एनएसजी में लगातार भारत की सदस्यता का विरोध कर रहा है।