'रामगोपाल बीजेपी के साथ मिलकर रच रहे हैं साजिश, मुसलमान रहें सावधान'

लखनऊ(8 जनवरी):  बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने यूपी विधानसभा चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों की चौथी और अंतिम सूची आज जारी कर दी। इस मौके पर उन्होंने बीजेपी पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके चाचा रामगोपाल यादव को साथ मिलाकर कांग्रेस से गठबंधन कराकर खुद चुनावी लाभ लेने की साजिश का आरोप लगाया।

- मायावती ने प्रदेश के सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों के वरिष्ठ पदाधिकारियों की बैठक में आरोप लगाया कि बीजेपी, मुख्यमंत्री अखिलेश और रामगोपाल को साथ में करके उनको कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ाने की साजिश कर रही है।

- उन्होंने कहा कि इसके अलावा सपा के दो खेमों में बंटने के कारण उनका वोट बैंक भी विभाजित हो जाने के मद्देनजर जनता को इन दोनों खेमों को अलग-अलग वोट देकर उसे खराब नही करना चाहिए, क्योंकि इससे बीजेपी को फायदा होगा। बीएसपी कार्यकर्ताओं को यह बात अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर बतानी होगी।

- मायावती ने कहा कि बैठक में कार्यकर्ताओं को सपा, कांग्रेस और बीजेपी द्वारा अपने चुनावी लाभ के लिए इस्तेमाल किए जा रहे साम, दाम, दंड, भेद आदि हथकंडों के बारे में सावधान रहने की जानकारी दी जाएगी, ताकि बीएसपी को किसी भी तरह का कोई राजनीतिक नुकसान ना हो।

- मायावती ने कहा था कि विपक्षी दलों के लोग बीएसपी पर जातिवादी पार्टी होने का आरोप लगाते हैं, लेकिन पार्टी ने समाज के सभी वर्गों के लोगों को टिकट देकर साबित किया है कि वह जातिवादी बिल्कुल भी नहीं है। मुसलमानों का एकजुट वोट किसी भी सियासी समीकरण को बना और बिगाड़ सकता है। 2012 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में मुसलमानों के लगभग एक पक्षीय मतदान की वजह से सपा को प्रचंड बहुमत मिला था।