महंगे हो सकते हैं AC-फ्रिज और वॉशिंग मशीन, सरकार बढ़ा सकती है टैक्स

Photo: Google


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 मार्च): सरकार एयर कंडीशनर (ACs), रेफ्रिजरेटर, वॉशिंग मशीन और माइक्रोवेव ओवन में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने जा रही है। इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से एसी, रेफ्रिजरेटर, वॉशिंग मशीन महंगे हो सकते हैं। आपको बता दें कि पिछले साल सरकार ने 19 लग्जरी उत्पादों पर इंपोर्ट ड्यूटी में भारी बढ़ोतरी की थी।


वाणिज्य मंत्रालय  एसी और रेफ्रिजरेटर के कंप्रेसर और कंडेन्सर बनाने में लगने वाली स्टील शीट और कॉपर ट्यूब पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाने के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है। सरकार ने पिछले साल कंप्रेसर पर इंपोर्ट ड्यूटी को 7.5 फीसदी से बढ़ाकर 10 फीसदी किया था। एसी, रेफ्रिजरेटर औऱ 10 किलो से कम क्षमता वाली वॉशिंग मशीनों पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुना करके 20 फीसदी कर दिया गया था।
बिजनेस स्टैंडर्ड छपी खबर के मुताबिक सरकार द्वारा इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाए जाने से मैन्युफैक्चरर्स की परेशानी बढ़ सकती है। पिछली बार इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने पर मैन्युफैक्चरर्स को इन उत्पादों के दामों में 3-5 फीसदी इजाफा करना पड़ा था। अब और इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से लोकल मैन्युफैक्सरर्स को नुकसान उठाना पड़ सकता है।


उद्योग के विशेषज्ञों का कहना है कि कंपनियों ने सीमा शुल्क में वृद्धि के कारण प्रीमियम श्रेणी में कीमतें नहीं बढ़ाई थीं, ताकि त्योहारी सीजन बिक्री को रफ्तार मिल सके। लेकिन कंपनियां अब इस बोझ ग्राहकों पर डाल सकती हैं और आनवाले कुछ महीनों में उत्पादों की कीमतों में 3 से 5 पर्सेंट तक का इजाफा हो सकता है।  गर्मी के मौसम में  कंडीशनर (ACs), रेफ्रिजरेटर के दाम बढ़ना लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है क्योंकि कंडीशनर (ACs), रेफ्रिजरेटर की मांग सबसे ज्यादा इनही दिनों में होती है।