नदवी बोले- खुद अलग हुए AIMPLB से, दंगा चाहने वालों के साथ नहीं रह सकता

नई दिल्ली(12 फरवरी): अयोध्या विवाद की सुलह का फॉर्म्युला बताने वाले मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने सदस्यता से बर्खास्त कर दिया है। एक ओर जहां बोर्ड का दावा है कि मौलाना नदवी की बर्खास्तगी की गई है वहीं दूसरी ओर मौलाना नदवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्होंने बोर्ड से अलग होने का फैसला खुद किया है। 

- उन्होंने कहा 'ये लड़ाई पूरी कौम के साथ होगी और मैं अयोध्या जाकर लोगों से मुलाकात करूंगा। शरीयत में मस्जिद को दूसरे स्थान पर शिफ्ट करने का प्रावधान है। इसलिए मैं चाहता हूं कि इस मामले का कुछ ऐसा समाधान हो जो यह सुनिश्चित करे कि भविष्य में अब हिन्दुस्तान में किसी भी मस्जिद को नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा और दोनों कौमें आपस में ऐसे मुद्दों पर मतभेद पैदा नहीं करेंगी।' 

- बता दें कि रविवार को लखनऊ में शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को बैन करने की मांग की थी। लखनऊ में एक बड़ा बयान देते हुए वसीम रिजवी ने कहा था कि एआईएमपीएलबी आतंकी संगठनों की एक शाखा है और इसे बैन किया जाना चाहिए। 

- इसके बाद एआईएमपीएलबी को बैन किए जाने के सवाल पर मौलाना नदवी ने कहा 'ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि अब तक मैं खुद बोर्ड के 99 फीसदी फैसलों से सहमत रहता था। ऐसे में एक मामले पर मेरी राय अलग होने पर मैं इसे बैन करने को नहीं कह सकता। वसीम रिजवी का इस मामले से कोई संबंध नहीं है और सुन्नी वक्फ बोर्ड इसमें पक्षकार है इसलिए बेवजह उन्हें इसमें नहीं बोलना चाहिए।'