'हाजी अली' में जा सकेंगी महिलाए, ओवैसी के नेता ने कहा- कोर्ट को बीच में नहीं आना चाहिए था

नई दिल्ली (26 अगस्त): हाजी अली दरगाह में बॉम्बे हाई कोर्ट ने महिलाओं के प्रवेश को हरी झंडी दे दी है। लेकिन एमआईएम पार्टी के नेता हाजी रफत हुसैन ने फैसले पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कहा कि कोर्ट को बीच में नहीं आना चाहिए था। हम इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाएंगे। वहां बैन लगा है तो वो रहना चाहिए था। 

उन्होंने कहा कि कोर्ट का बीच में आना धर्म के खिलाफ है। कोर्ट को इतनी जल्दबाजी दिखाने की क्या जरूरत थी? उन्होंने कहा कि इतने सालों से बाबरी मस्जिद का मामला अटका पड़ा है उस पर कोई फैसला नहीं हुआ है। हमारे देश में वैसे ही सांप्रदायिक माहौल चल रहा है। जब से हिंदुस्तान की ये नई बीजेपी की हुकूमत आई है तब से ये सब हो रहा है। इस्लाम में महिलाओं को मजार के पास जाने के लिए पाबंदी है और ऐसा मजहब में हैं। इधर, हाजी अली दरगाह के ट्रस्ट ने भी इसका विरोध किया है। न केवल विरोध किया है बल्कि कोर्ट ने फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाने की बात कही है।