इस 82 साल की महिला के एक कॉल पर हाजिर हो जाते हैं पुलिस अधिकारी

संकेत पाठक, मुंबई (7 जनवरी): मुबंई के माटुंगा में एक बुजुर्ग महिला की देखभाल पूरा पुलिस स्टेशन करता है। बुजुर्ग महिला की एक कॉल पर मिनटों में पुलिस वाले हाजिर हो जाते हैं। लोग इस महिला को माटुंगा की मम्मी कहते हैं।

इस महिला का नाम ललिता सुब्रमण्यम हैं, लेकिन लोग इन्हें इनके नाम से कम माटुंगा की मम्मी के तौर ज्यादा पहचानते हैं। 82 साल ललिता सुब्रमण्यम का दो बेटे और एक बेटी का भरा-पूरा परिवार है, लेकिन इनकी किस्मत में इनके बच्चों का साथ नहीं लिखा है। एक बेटा और एक बेटी अमेरिका में रहती हैं, वहीं दूसरा बेटा बैंगलुरू में रहता है। तीनों बच्चे बड़ी कंपनियों में लाखों रुपए महीने की जॉब करते हैं, लेकिन किसी ने इनकी देखभाल करने की जहमत नहीं उठाई और इसी दौरान इनका परिचय मांटुगा पुलिस स्टेशन में तैनात एक इंस्पेक्टर से हुआ, ये बात साल 1992 की है।

बीते 25 सालों से माटुंगा पुलिस ललिता सुब्रमण्यम का तरह पूरी तरह ध्यान रख रही है। माटुंगा पुलिस स्टेशन का हर अधिकारी-कर्मचारी ललिता सुब्रमण्यम को अपनी मां की तरह मानता है। माटुंगा पुलिस स्टेशन के पुलिसकर्मी ललिता सुब्रमण्यम की देखभाल में कोई कमी नहीं छोड़ते। ललिता सुब्रमण्यम की अकसर तबीयत खराब हो जाती है, उनकी आवाज नहीं निकलती। ऐसे में वो अपने मोबाइल से मांटुगा पुलिस के अधिकारी और कर्मचारियों का नंबर मिलाकर अपनी पूजा की घंटी बजा देती है। सामने वाला पुलिसकर्मी घंटी की आवाज को सुनकर समझ जाता है कि ललिता सुब्रमण्यम दिक्कत में है और इसके बाद मिनटों में कोई ना कोई पुलिसकर्मी उनके फ्लैट पर हाजिर हो जाता है।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=yY_DrO1r_Cc[/embed]