राज्यसभा में ओलंपिक खिलाड़ियों की अगुवा बनीं मैरीकॉम, उठाए अहम सवाल

नई दिल्ली (3 अगस्त): अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त महिला मुक्केबाज मैरीकॉम ने राज्यसभा में मंगलवार को पहली बार अपना सवाल रखा। उन्होंने ओलंपिक खेलों के लिए बजट बढ़ाए जाने की जरुरत बताई। साथ ही ओलंपिक खिलाड़ियों के सामने आने वाली दिक्कतों का जिक्र भी किया।

- गौरतलब है, राष्ट्रपति ने मैरीकॉम को इस साल अप्रैल में राज्यसभा सदस्य के रूप में मनोनीत किया था।  - पांच बार की विश्व चैंपियन मैरीकॉम ने प्रश्नकाल के दौरान पहली बार अपना प्रश्न पूछते ओलंपिक दल को बधाई दी।  - मैरीकॉम ने उम्मीद जताई कि दल में शामिल खिलाड़ी देश को पदक दिलाएंगे। - मैरीकॉम ने ओलंपिक खेलों के लिए बजट बढ़ाए जाने की जरूरत जताते हुए युवा एवं खेल कार्यक्रम मंत्री विजय गोयल से जानना चाहा कि इन खेलों के लिए बजट कैसे बढ़ाया जा सकता है। - साल 2012 के ओलंपिक में मुक्केबाजी में मैरीकॉम ने कांस्य पदक जीता था। - मैरीकॉम ने खिलाड़ियों की समस्याओं को उठाते हुए कहा कि ओलंपिक खिलाड़ियों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उन्हें प्रशिक्षण के दौरान सही खाना नहीं मिलता और खाना समय पर भी नहीं मिलता। - उनके पूरक सवाल के जवाब में गोयल ने कहा कि इस बार सरकार ने ओलंपिक खिलाड़ियों का पूरा ध्यान रखा है और उन्हें किसी तरह की परेशानी नहीं होने दी। - विजय गोयल जवाब में बताया कि रियो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे सभी 119 खिलाड़ियों के प्रशिक्षण पर 30 लाख से लेकर एक करोड़ रपये तक खर्च किए गए हैं।  - उन्होंने बताया- प्रत्येक खिलाड़ी को विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि 2020 में टोक्यो में होने वाले अगले ओलंपिक के लिए तैयारियां अभी से शुरू कर दी गई हैं। - गोयल ने कहा कि ओलंपिक खेलों के लिए वित्त मंत्रालय, सीएसआर और प्रवासी भारतीयों की मदद जैसे कदमों से बजट बढ़ाने की कोशिश की जाएगी।