नहीं आता ये आदेश तो पाकिस्तान को मिटा देते अर्जन सिंह

नई दिल्ली (18 सितंबर): एयरफोर्स के मार्शल अर्जन सिंह (98) का निधन हो गया। सोमवार को उनका अंतिम संस्कार होगा। 1965 में एयरफोर्स चीफ रहे अर्जन सिंह को यह जंग जल्दी खत्म होने का हमेशा मलाल रहा। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि जंग लंबी चलती तो पाक को मिटा देते।

अर्जन सिंह ने उस इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें इस बात का अफसोस हमेशा रहेगा कि जब हम 1965 में युद्ध जीत चुके थे और पाकिस्तान को तबाह करने की स्थिति में थे, तभी युद्ध विराम हो गया। जबकि हम उस वक्त पाकिस्तान के किसी भी हिस्से को नष्ट कर सकते थे। हमारे पास मेहर सिंह और केके मजूमदार जैसे बेहतरीन पायलट थे। जबकि पाकिस्तान अंबाला पार करने की स्थिति में भी नहीं था। दिल्ली- मुंबई-अहमदाबाद पहुंचना तो उसके सपने से भी दूर था। पर हमारे नेताओं ने युद्ध खत्म करने का निर्णय लिया।

व्हील चेयर पर आए और खड़े होकर कलाम को किया था सैल्यूट 27 जुलाई, 2015 को पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम के निधन के बाद उनका पार्थिव शरीर दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर लाया गया। तब कलाम के अंतिम दर्शन के लिए राष्ट्रपति और पीएम समेत कई नेता पहुंचे थे। लेकिन सबकी नजरें कांपते हाथों से सैल्यूट करते योद्धा अर्जन सिंह पर थीं। वे आए तो व्हीलचेयर पर थे, लेकिन कलाम को देखते ही खुद चलकर पास आए और तनकर सलामी भी दी थी।