ये बालिका वधू बनने जा रही है डॉक्टर, महज 8 साल की उम्र में हुई थी शादी

नई दिल्ली (1 जुलाई): राजस्थान की रहने वाली 20 वर्षीय रूपा यादव डाॅक्टर बनने जा रही हैं। रूपा ने अपने सपनों को पूरा करने के लिए जो कर दिखाया है वह हम सबके के लिए एक मिसाल है।

रूपा यादव का विवाह 8 साल की उम्र में कर दिया गया था, लेकिन उसने इसे अपने सपनों की उड़ान के आड़े नहीं आने दिया। रूपा अब अपनी मेहनत के दम पर डॉक्टर बनने जा रही हैं। उन्होंने सीबीएसई के नेशनल एंट्रेंस एलिजिबिल्टी टेस्ट (NEET) में 603 अंक लाकर अपने डॉक्टर बनने की मंजिल की पहली सीढ़ी कामयाबी से पार कर ली है।

रूपा कक्षा III में थी जब उनकी शादी शंकर लाल से करवा दी गई थी। शादी के समय शंकर की उम्र भी 12 साल की ही थी। मगर रूपा के परिजनों ने शादी के बाद भी उसकी पढ़ाई में कोई रोड़ा नहीं अटकाया। परिवार ने रूपा की पढ़ाई के लिए उसे पूरी तरह सपोर्ट किया।

रूपा की शादी हुई तब पति शंकरलाल की उम्र 12 साल थी। गौना दसवीं क्लास में हुआ। गांव में आठवीं तक सरकारी स्कूल में पढ़ी। फिर गांव के प्राइवेट स्कूल से 10वीं तक की पढ़ाई की। 84 प्रतिशत अंक आए थे। ऐसे में ससुराल में आस-पास की महिलाओं ने घरवालों से कहा कि बच्ची पढऩे वाली है तो इसे पढ़ाओ। फिर पति व जीजा बाबूलाल ने रूपा का एडमिशन गांव से करीब 6 किलोमीटर दूर प्राइवेट स्कूल में कराया।