ऐसे शख्स से ना करें शादी, पड़ सकता है आपको भारी...

नई दिल्ली (2 अगस्त): शादी के बाद पति और पत्नी सुख हो या दुख दोनों ही परिस्थितियों में वो एक-दूजे का हाथ थामे चलते हैं। उनकी खुशियां एक हो जाती हैं और उनके दुख भी एक हो जाते हैं। इस बात से तो सभी वाकिब है, लेकिन आप यह जानकर दंग रह जाएंगे कि शादी के बाद एक पार्टनर की बीमारी दूसरे को भी प्रभावित करती है। दंपतियों के मामले में कमजोरी और अवसाद एक दूसरे से जुड़े हुए हो सकते हैं।

एक शोध में इसका खुलासा भी किया गया है। अगर आप किसी कमजोर शख्स से शादी करते हैं तो शादी के बाद आपके भी कमजोर होने की आशंका बढ़ जाती है। अगर आप किसी अवसाद पीड़ित से शादी करते हैं तो आपके भी डिप्रेशन का शिकार होने के चांसेज बढ़ जाते हैं। अध्ययन में दावा किया गया है कि बुजुर्गों में कमजोरी और अवसाद होने का एक बड़ा कारण उनके जीवनसाथी का ऐसा होना होता है।

उम्रदराज महिला या पुरुष में कमजोरी जितनी अधिक होगी, उतना वे अवसादग्रस्त होंगे। साथ ही जितना अधिक अवसाद होगा, उतनी ही अधिक कमजोरी होगी। जर्नल ऑफ अमेरिकन गेरिएट्रिक्स सोसायटी में प्रकाशित इस अध्ययन में शादीशुदा लोगों पर कमजोरी और अवसाद के प्रभाव का विश्लेषण किया गया है।

खास बात यह है कि अधिक उम्र वाले पति कम उम्र वाले पति की तुलना में अधिक अवसादग्रस्त और कमजोर होते हैं, लेकिन अधिक उम्र वाली पत्नी कम उम्र वाली पत्नी से अधिक अवसादग्रस्त नहीं होती है। अपेक्षाकृत कमजोर जरूर कह सकते हैं।