यहां पर एक हफ्ते में 36 किसानों ने दे दी जान

मराठवाडा (24 मई): सूखे से जूझते महाराष्‍ट्र के मराठवाडा में किसानों का जिंदगी से हारने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सूखे के कारण तबाह होती फसलों और तंगहाली के कारण बीते एक हफ्ते में 36 से ज्यादा किसानों ने खुदकुशी कर ली है।

इन मौतों के साथ ही इस साल खुदकुशी करने वाले किसानों का आंकड़ा 454 तक पहुंच गया है। आलम ये है कि मराठवाडा में हर सप्ताह 20 से 30 किसान खुदकुशी कर लेते हैं। जबकि सरकारें इस ओर से पूरी तरह आंखें मूंदे बैठी हुई हैं। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार अधिकारी भी मानते हैं मरने वालों में ज्यादातर फसलों की बर्बादी और आर्थिक समस्या के कारण जिंदगी से हार मान जाते हैं।

बीते 16 मई तक इस साल किसानों की मौत का आंकड़ा 418 पार कर चुका था। ‌अधिकारियों की मानें तो पिछले 16 महीनों में कुल 1548 किसान खुदकुशी कर चुके हैं। ऐसा नहीं है मौत के ये आंकड़े किसी निजी संस्‍था की ओर से जारी किए गए हों, बल्कि सरकार की फाइलों में इन मौतों का हिसाब दर्ज है। औरंगाबाद के क्षेत्रीय आयुक्त की ओर से सोमवार को मराठवाडा के 8‌ जिलों के यह आंकड़े जारी किए गए।