Blog single photo

गुलाम कश्मीर (पीओके) में पाक सरकार के खिलाफ बगावत, पुलिस दमनचक्र में कई मरे, 80 घायल

कश्मीर पर मगरमच्छी आंसू बहाने वाले पाकिस्तान सरकार के कब्जे वाले गुलाम कश्मीर (पीओके) में इमरान सरकार के खिलाफ बगावत हो गयी।इमरान खान के हुक्म के बाद पाक पुलिस बागियों को कुचलने के लिए लाठी और गोलियों का सहारा ले रही है। मंगलवार और बागियों की एक रैली पर पाकिस्तानी जवानों ने जमकर लाठियां भांजीं और गोलियां चलाई। नतीजतन कई लोगों के मारे जाने और घायल होने की खबर है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 अक्टूबर): कश्मीर में मगरमच्छी आंसू बहाने वाले पाकिस्तान सरकार के कब्जे वाले गुलाम कश्मीर (पीओके) में इमरान सरकार के खिलाफ बगावत हो गयी। पाकिस्तान सरकार बागियों को कुचलने के लिए लाठी और गोलियों का सहारा ले रही है। मंगलवार और बागियों की एक रैली पर पाकिस्तानी जवानों ने जमकर लाठियां भांजीं और गोलियां चलाई। नतीजतन कई लोगों के मारे जाने और घायल होने की खबर है। पाकिस्तान ने भी दो लोगों की मौत की पुष्टि की है।

मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के मुजफ्फराबाद में मंगलवार को ऑल इंडिपेंडेंट पार्टीज अलायंस (एआईपीए) के बैनर तले कई राजनीतिक दलों ने एक जनसभा का आयोजन किया था। इसी दौरान वहां प्रदर्शन शुरू हो गया, जिसके बाद प्रदर्शनकारियों पर पुलिस ने जमकर लाठियां बरसाईं। इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई जबकि कई लोग जख्मी हो गए। घटना से जुड़े एक वीडियो में साफ दिख रहा है कि पुलिस द्वारा लाठीचार्ज के बाद रैली स्थल पर भगदड़ मच गई। लोग अपन जान बचाने के लिए इधर-उधर भाग रहे हैं। वहीं कुछ लोग मुंह पर कपड़ा बांधकर राजनीतिक दलों का विरोध करने में जुटे हैं।

गुलाम कश्मीर के अलावा पाकिस्तान के बाकी हिस्सों में भी इमरान सरकार के खिलाफ बगावत की चिंगारी फूटना शुरू हो गयीं हैं। पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने रविवार को जिन्ना स्नातकोत्तर चिकित्सा केंद्र (जेपीएमसी) के अपने दौरे के समय कहा कि संघीय सरकार देश को सही दिशा में चलाने के लिए सक्षम नहीं है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि पाकिस्तान में हर कोई न कोई सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज उठा रहा था।

बिलावल ने कहा, ‘हर कोई इस कठपुतली सरकार से तंग आ गया है।’ मीडिया रिपोर्ट में उनके हवाले से कहा गया है, ‘प्रत्येक राजनीतिक दल और व्यापारी, शिक्षक, डॉक्टर तथा मजदूर सहित सभी तबकों के लोग, सरकार की नीतियों से नाखुश हैं। इससे मुझे लगता है कि इमरान खान अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएंगे।’

Images Courtesy:Google

Tags :

NEXT STORY
Top