BREAKING: मनोहर पर्रिकर ने रक्षा मंत्री के पद से दिया इस्तीफा

नई दिल्ली (12 मार्च): मनोहर पर्रिकर ने रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है। बताया जा रहा है कि मनोहर पर्रिकर एकबार फिर से गोवा के मुख्यमंत्री बनेंगे। इस सिलसिले में मनोहर पर्रिकर ने बीजेपी, MGP, GFP और 3 निर्दलीय विधायकों के साथ राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मुलाकात की और सरकार बनाने का दावा पेश किया। दरअसल गोवा में सरकार के गठन के लिए किसी भी पार्टी को स्पष्ट जनादेश नहीं मिला है। 40 सीटों वाली गोवा विधानसभा में सत्ताधारी बीजेपी को 13 सीटें मिली है, तो कांग्रेस को 17 सीटें मिली है। जबकि राज्य में सरकार के गठन के लिए किसी भी पार्टी को कम से कम 21 सीटें चाहिए।

बताया जा रहा है कि कई छोटे दलों ने बीजेपी को सरकार बनाने के लिए सशर्त समर्थन देने का भरोसा दिया है। इन पार्टी का कहना है कि बीजेपी अगर पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाती है तो वो उसे समर्थन दे सकती है। जानकारी के मुताबिक गोवा के पर्यवेक्षक बनाए गए नितिन गडकरी भी पणजी पहुंच चुके हैं।

गोवा में बीजेपी को सत्ता में लाने के लिए 9 विधायकों की जरूरत है। महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी (3), गोवा फारवर्ड पार्टी (3) और निर्दलीयों (3) का महत्व काफी बढ़ गया है। MGP ने भी बीजेपी को समर्थन देने के लिए पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाने की शर्त रखी है। उनके समर्थन से बीजेपी 13 से 16 तक तो पहुंच जाएगी। MGP के अलावा गोवा फॉरवर्ड भी मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व को लेकर सकारात्मक हैं। गुट नेता विजय सरदेसाई के मुताबिक कांग्रेस के मुकाबले पर्रिकर अच्छे व्यक्ति हैं।

गोवा फॉरवर्ड के भी समर्थन से बीजेपी बहुमत के और करीब पहुंच जाएगी और उसके पास 19 विधायकों का समर्थन हो सकता है। गोवा में अब 3 निर्दलीय विधायक हैं। इनमें रोहन खंवटे, गोविन्द गावड़े और प्रसाद गांवकर शामिल हैं। इनके रुख पर सबकी नजरें टिकी हैं। इनमें से सेव गोवा फ्रंट के प्रसाद गांवकर को बीजेपी ने समर्थन दे कर चुनाव में उतारा है और जिससे बीजेपी गठबंधन का आंकड़ा 20 तक पहुंच रहा है।

ऐसे में पर्रिकर केंद्र की राजनीति से दोबारा गोवा की राजनीति में लौट रहे हैं।