रहमान मलिक का कोई क्या करे, बाचा खान यूनिवर्सिटी हमले में भारत को लपेटने से बाज नहीं आए

नई दिल्ली (21 जनवरी) :  पठानकोट हमले के गुनहगारों को क़ानून के अंजाम तक पहुंचाने के लिए पाकिस्तान एक तरफ पूरी गंभीरता से भारत का साथ देने का वादा करता है, वहीं पाकिस्तान के सियासी नेता ऊटपटांग बयान देने और भारत पर झूठे आरोप लगाने से बाज नहीं आते। ऐसे ही एक नेता है रहमान मलिक। मलिक किसी वक्त पाकिस्तान के आंतरिक मामलों के मंत्री जैसे महत्वपूर्ण पद पर रह चुके हैं।

रहमान मलिक ने बाचा ख़ान यूनिवर्सिटी पर बुधवार को हुए आतंकी हमले के लिए भारत को ज़िम्मेदार ठहराया है। मलिक ने पाकिस्तान के एक न्यूज़ चैनल से कहा, "हमें भारत के रक्षा मंत्रालय की धमकी को हल्के में नहीं लेना चाहिए। बाचा खान यूनिवर्सिटी हमले के पीछे भारतीय एजेंसी रॉ है। उन्होनें तहरीक-ए-तालिबान के साथ हाथ मिला लिया है।"

मलिक ने भारतीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के पठानकोट हमले के बाद दिए बयान का हवाला दिया। मलिक ने कहा कि "वो ऐसा कहने का दुस्साहस कैसे कर सकते हैं। बाचा ख़ान यूनिवर्सिटी हमले को उन्होंने ही अंजाम दिया।"

पर्रिकर ने पठानकोट हमले के बाद पिछले हफ्ते कहा था कि "देश की आतंकी गतिविधियों को बर्दाश्त करने की क्षमता खत्म हो गई है साथ ही मेरी भी। इसके लिए हम कुछ करेंगे। आप देखेंगे।"

पठानकोट हमले की वजह से भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली विदेश स्तरीय वार्ता स्थगित हो गई थी।