पर्रिकर का रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा, कल लेंगे गोवा के सीएम पद की शपथ

नई दिल्ली ( 13 मार्च ): पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी और पंजाब में कांग्रेस को जबरदस्त बहुमत मिला है, तो वहीं गोवा और मणिपुर किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं प्राप्त हुआ। लेकिन इसके बावजूद गोवा में भाजपा की सरकार बनने का रास्ता करीब साफ होता दिख रहा है। रविवार को पार्टी ने सरकार बनाने का दावा किया था और इसके बाद राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने मनोहर पर्रिकर को सीएम पद की शपथ लेने और इसके 15 दिन के भीतर बहुमत साबित करने की अनुमति दे दी थी। सोमवार को मनोहर पर्रिकर ने केंद्रीय रक्षा मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

अब खबर है कि पर्रिकर मंगलवार शाम पांच बजे शपथ लेंगे। इसके बाद विधानसभा का सत्र बुलाया जाएगा और भाजपा बहुमत साबित करने की कोशिश करेगी।

गोवा में कांग्रेस को 17 सीटें मिली हैं और उसे बहुमत के लिए चार सीटों की जरूरत थी। कांग्रेस को चुने गए तीन में से दो निर्दलीय विधायकों और एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) के एक विधायक ने समर्थन का भरोसा दिया था।

दूसरी ओर, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की रणनीति भाजपा के लिए कारगर साबित हुई। उनकी बैठकों के बाद भाजपा खेमे की ओर से रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाने की कसरत शुरू हुई और दोनों निर्दलीय विधायकों ने भी भाजपा के साथ जाने के संकेत दे दिए।

तीन-तीन विधायकों वाली एमजीपी (महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी) और गोवा फारवर्ड पार्टी ने भी पर्रिकर के मुख्यमंत्री बनने की स्थिति में भाजपा का समर्थन करने का एलान कर दिया।

जबकि तीसरे निर्दलीय विधायक ने पहले ही भाजपा के साथ जाने की घोषणा कर दी थी। इस तरह इन सभी विधायकों को मिलाकर भाजपा को समर्थन देने वाले विधायकों का आंकड़ा 22 पहुंच रहा है जो बहुमत के लिए जरूरी 21 की संख्या से एक ज्यादा है।