पीएम मोदी ने मन की बात में इमरजेंसी को लेकर कांग्रेस पर किया हमला

नई दिल्ली (25 जून): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को 'मन की बात' के कार्यक्रम में संबोधित किया। ये 'मन की बात' कार्यक्रम का 33वां संस्करण था। पीएम मोदी ने कहा कि आज भगवान जगन्नाथ जी की रथ यात्रा निकल रही है, देश के कई भागों में बहुत ही श्रद्धा और उल्लासपूर्वक देशवासी मनाते हैं। भारत की विविधता इसकी विशेषता भी है और ये भारत की शक्ति भी है।


पीएम मोदी ने देशवासियों को ईद की बधाई दी। साथ ही कहा कि रमजान का पवित्र महीना इबादत में पवित्र भाव के साथ मनाया। अब ईद का त्योहार है ईद उल फित्र के अवसर पर मेरी तरफ से सबको शुभकामनाएं। रमजान खुशिया बांटने का महीना है। हम इन पवित्र अवसरों से खुशियां बांटते चलें।


पीएम मोदी ने कहा कि मौसम बदल रहा है. इस बार गर्मी भी बहुत रही, लेकिन अच्छा हुआ कि वर्षा ऋतु समय पर अपने नक्शे कदम पर आगे बढ़ रही है। जीवन में कितनी ही आपाधापी हो, तनाव हो, व्यक्तिगत जीवन हो, सार्वजनिक जीवन हो, बारिश का आगमन मनःस्थिति को बदल देता है।


प्रधानमंत्री इमरजेंसी का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर हमला बोला। पीएम मोदी ने कहा कि इमरजेंसी के दौरान अखबारों को बेकार कर दिया गया। 25 जून, 1975 की रात भारतीय लोकतंत्र के लिए काली रात थी। इमरजेंसी के दौरान अटलजी जेल में थे। उस रात को कोई भारतवासी, कोई लोकतंत्र प्रेमी भुला नहीं सकता। एक प्रकार से देश को जेलखाने में बदल दिया गया था। विरोधी स्वर को दबोच दिया गया था। जयप्रकाश नारायण सहित देश के गणमान्य नेताओं को जेलों में बंद कर दिया था। न्याय व्यवस्था भी आपातकाल के उस भयावह रूप की छाया से बच नहीं पाई थी। पीएम मोदी ने इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता भी पढ़ी, जो उन्होंने उस दौर में लिखी थी।