"जनता की जय पर मैं भी बोलूंगा भारत माता की जय''

नई दिल्ली (5 अप्रैल): पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने कहा कि अगर 'भारत माता की जय' बोलने का अर्थ 'जनता की जय' है, तो मैं भी इसे बोलने के लिए तैयार हूं। 

रिपोर्ट के मुताबिक, एक प्रेस कांफ्रेस में पत्रकारों को संबोधित करते हुए अय्यर ने कहा, "मुझको इंतजार नहीं करना पड़ा कि कोई खाकी की निकर पहन कर मुझे यह बताए, हम तो बरसों से भारत माता की जय कहते आ रहे हैं, इसके साथ-साथ हम 'जय हिन्द' और 'जय भारत' भी कहते आए हैं।" 

मणिशंकर अय्यर ने कहा, "देशभक्ति दिखानी हों तो यह दिखाएं कि जनता भक्त हैं। जनता भक्त होने के लिये रास्ता है, पंचायती राज के जरिए उनको सशक्त बनाइए, जिनकी खातिर ये सारी योजनाएं चल रही हैं।"

उन्होंने भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जिक्र करते हुए कहा, "नेहरू ने 'डिस्कवरी ऑफ इंडिया' के तीसरे अध्याय में लिखा है कि वह गांव-गांव घूमते थे। तो लोग उनका स्वागत भारत माता की जय के नारे से करते थे। नेहरू ने लोगों से पूछा यह 'जय' है क्या ? क्या यह पेड़ है, पहाड़ है या माटी है। अंत में उन्होंने लोगों को बताया कि भारत माता की जय का अर्थ जनता की जय है।" 

अय्यर ने भाजपा तथा आरएसएस का नाम लिए बिना यह टिप्पणी की।