DU एडमिशन: मनीष सिसोदिया की मांग दिल्ली के बच्चों को मिले प्राथमिकता

नई दिल्ली (1 जुलाई): एक तरफ दिल्ली यूनिवर्सिटी में दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो गई है, वहीं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने एक मांग की है। सिसोदिया का कहना है कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में दिल्ली के बच्चों को दाखिले में प्राथमिकता मिलनी चाहिए।

रिपोर्ट के मुताबिक, मनीष सिसोदिया ने कहा, "हमारा सवाल यह नहीं है कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में 85 प्रतिशत आरक्षण हो या नहीं हो, हमारा सवाल यह है कि दिल्ली के ढाई लाख बच्चे हर साल 12वीं करके आते हैं। लेकिन यहां एक सवा लाख बच्चों को पढ़ाने की ही व्यवस्था है, तो बाकी के सवा लाख बच्चों को हम कहां लेकर जाएं?"

उन्होंने कहा, दिल्ली सरकार सैकड़ों करोड़ों रुपए दिल्ली यूनिवर्सिटी को देती है। अगर दिल्ली के बच्चों को प्राथमिकता मिलेगी तो हम दिल्ली के लोगों के पैसों को ठीक से इस्तेमाल कर पाएंगे। सिसोदिया के मुताबिक दो विकल्प हैं। पहला या तो हम और कॉलेज खोल लें और दिल्ली यूनिवर्सिटी को फंड करना बंद करें का फिर दूसरा दिल्ली के बच्चों को कट ऑफ में कुछ छूट मिले। मसलन जहां बाकी बच्चों को 98 प्रतिशत पर मिल रहा है, वहीँ दिल्ली के बच्चों को 93 प्रतिशत पर दाखिला मिल जाए यानी कट ऑफ में 5 प्रतिशत की छूट मिल जाए। 

बता दें, दिल्ली यूनिवर्सिटी के कुल 61 कॉलेज में से 28 को दिल्ली सरकार पूर्ण या आंशिक रूप से फंड करती है और इसलिए इन कॉलेज के कामों में दिल्ली सरकार का कुछ दखल होता है।