मणिपुर में नागा विद्रोहियों के खिलाफ स्थानीय लोगों का गुस्सा उबाल पर

नई दिल्ली (19 दिसंबर): कर्फ्यू के बावजूद मणिपुर के इंफाल पूर्वी जिले में रविवार को स्थानीय लोगों का विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया और उन्होंने कम से कम 22 गाड़ियों को फूंक दिया। स्थानीय लोग नागा विद्रोहियों के आर्थिक नाकेबंदी और सुरक्षा बलों पर आतंकी हमले का विरोध कर रहे थे।राज्य में 1 नवंबर से जारी नागा विद्रोहियों की आर्थिक नाकेबंदी के खिलाफ लोगों का गुस्सा भड़क गया। पिछले सप्ताह सुरक्षाबल पर हुए हमले से भी लोग खफा थे। नागा विरोधियों के प्रभाव वाले इंफाल के इलाके में लोगों ने हिंसक विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने कम से कम 22 कारों, बसों और अन्य गाड़ियों को फूंक डाला। विरोध प्रदर्शन करनेवालों ने गाड़ी में लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया। आगजनी कर रहे लोगों को कंट्रोल करने के लिए सुरक्षाबलों ने आंसू गैस के गोले छोड़े। हिंसक आगजनी को देखते हुए पूरे इंफाल ईस्ट डिस्ट्रिक्ट में कर्फ्यू लगा दिया है। इलाके में भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात हैं और गश्त लगा रहे हैं। नागा विद्रोहियों ने 1 नवंबर से ही राज्य में आर्थिक नाकेबंदी कर रखी है जिसके बाद दिन प्रति दिन हालात बदतर होते जा रहे हैं। इस नाकेबंदी की वजह से राज्य में रोजमर्रा की जरूरत के सामानों के दाम काफी बढ़ गए हैं। शनिवार को 70 के करीब नागा विद्रोहियों ने पुलिस चेकपोस्ट पर हमला किया था और वे दो जवानों को घायल कर 9 ऑटोमेटिक राइफल उठा ले गए थे। नागाओं के खिलाफ सिविल सोसायटी ग्रुप ने बंद का आयोजन किया था जिस दौरान बड़े पैमाने पर आगजनी हुई।