छात्र ने तैयार किया ट्रेनों के लिए बदबू से मुक्त वाटरलेस टॉयलेट का डिजाइन

नई दिल्ली (17 जून) :  विनोद एंथनी थॉमस मणिपाल यूनिवर्सिटी की फैक्लटी ऑफ ऑर्किटेक्चर में दसवें सेमेस्टर के छात्र हैं। उन्होंने भारतीय रेलवे के लिए पानी और दुर्गंध रहित टॉयलेट डिजाइन करने के लिए सार्वजनिक प्रतियोगिता में दूसरा इनाम हासिल किया है।

इस प्रतियोगिता का आयोजन लखनऊ स्थित रिसर्च डिजाइन्स एंड स्टैंडर्ड ऑर्गनाइजेशन ने किया था। इस प्रतियोगिता में ऐसे टॉयलेट के डिजाइन मांगे गए थे जिनके ऑपरेशन और मेंटनेंस में पानी के इस्तेमाल की ज़रूरत ना पड़े। साथ ही ये दुर्गंध से भी पूरी तरह मुक्त हों।

विनोद ने ऐसे टॉयलेट को डिजाइन किया जो पटरियों पर मल निकासी की मौजूदा व्यवस्था से निपट सकता है। विनोद के मुताबिक मौजूदा व्यवस्था अस्वच्छ, अनैतिक और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली है। विनोद के मुताबिक ट्रेनों में फिलहाल जिस तरह के टॉयलेट की व्यवस्था है उसमें प्रभावी ढंग  से फ्लश काम नहीं करता जिसकी वजह से गंदगी और दुर्गंध की समस्या पेश आती है।   

मणिपाल यूनिवर्सिटी की एक रिलीज़ के मुताबिक विनोद का डिजाइन मौजूदा सिस्टम की जगह लेगा। इसमें एक कन्वेयर का इस्तेमाल होगा जो एयरटाइट और भली-भांति बंद बड़े बॉक्स से जुड़ा होगा। ये बॉक्स इस तरह का डिजाइन किया गया है जिसमें पानी की बर्बादी को रोका जा सकेगा। इसमें डिकम्पोज़िशन और फोर्स्ड वेंटिलेशन ( पानी के वाष्पीकरण) का सहारा लिया जाएगा।

इस प्रतियोगिता का आयोजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'स्वच्छ भारत अभियान'  के मद्देनज़र किया गया। इसके लिए आई अनेक प्रविष्टियों में से 5 को छांट कर विजेताओं के नामों का एलान किया गया।  

31 मई को शार्टलिस्टेड डिजाइनर्स ने अपने प्रोजेक्टस को जूरी के सामने रखा। इस जूरी में रेलवे, उद्योग और शिक्षा व शोध जगत से जुड़े विशेषज्ञ शामिल थे। इस हफ्ते विजेताओं के नामों का एलान किया गया जिसमें विनोद का नाम दूसरे विजेता के तौर पर घोषित किया गया। उन्हें 75,000 रुपए का इनाम देने का एलान किया गया। दूसरा पुरस्कार उन्होंने एक और डिजाइनर राहुल गर्ग और टीम सदस्य सौरभ हंस के साथ बांटा।