हॉंग-कॉंग के बाद मंगोलिया ने भी चीन के सामने घुटने टेके !

नई दिल्ली (22 दिसंबर): हॉंग-कॉंग के बाद मंगोलिया ने भी चीन के आगे सरैंडर कर दिया है। तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा की मेहमाननवाजी करने के लिए चीनी कोप झेलने के बाद मंगोलिया ने कहा है कि वह तिब्बती धर्म गुरु को दोबारा देश का दौरा करने की इजाजत नहीं देगा। एक मंगोलियाई समाचार पत्र के हवाले से समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने कहा कि मंगोलिया के विदेश मंत्री त्सेंद मुंख-ओर्गिल ने दलाई लामा को धार्मिक उद्देश्य के लिए भी देश के दौरे की इजाजत नहीं देने की बात कही है। चीन की कड़ी आपत्ति के बावजूद बीते महीने दलाई लामा ने मंगोलिया का दौरा किया था और वहां के बौद्ध पुजारियों से मुलाकात की थी। 

चीन दलाई लामा पर तिब्बत में अलगाववादी गतिविधियां चलाने का आरोप लगाता रहा है। बीते सप्ताह मंगोलिया ने कहा कि चीन ने एक प्रमुख सीमा चौकी बंद कर दी है, जिससे ट्रकों की आवाजाही प्रभावित हुई है। मंगोलियाई ट्रकों पर चीन द्वारा उच्च यातायात शुल्क लगाए जाने से उत्पन्न आर्थिक संकट से निपटने के लिए मंगोलिया ने भारत से मदद मांगी थी। भारत ने मंगोलिया की मांग के अनुरूप मदद भेजी भी, मगर मंगोलिया घुटने टेक दिये। हालांकि, अभी तक मंगोलिया की सरकार की ओर से अभी तक इस बारे में कोई भी अधिकृत बयान नहीं आया है।