मैनचेस्टर सिटी काउंसिल ने जिंदा पेंशनर को भेज दी शोक संवेदना

नई दिल्ली (13 जून): जिंदा आदमी को मरा घोषित कर देने का कमाल केवल भारत में ही नहीं इंग्लैण्ड में भी होता है। इसका ताजा उदाहरण मैनचेस्टर के डिपार्टमेंट ऑफ वर्क्स एण्ड पेंशन का है। डिपार्टमेंट ऑफ वर्क्स एण्ड पेंशन ने मैनचेस्टर सिटी काउंसिल को एक लेटर भेजा जिसमें भारतीय मूल के मदन लाल खोसला का निधन हो गया है, इसलिए उनके नाम पर जारी की जा रही सुविधाओँ को समाप्त कर दिया जाये। मैनचेस्टर सिटी काउंसिल ने एक कंडोलेंस लेटर बनाया और उसे मदल लाल खोसला के एडरेस पर भेज दिया।

यह पत्र मदन लाल खोसला की पत्नी को सुदेश खोसला के नाम लिखा गया था। पत्र में सबसे पहले सुदेश खोसला के प्रति सहानुभूति और संवेदना व्यक्त की गई। फिर आगे माफी मांगते हुए लिखा गया, चूंकि आपके पति मदन खोसला अब इस दुनिया में नहीं है, इसलिए उनके नाम से दी जा रही काउंसिल टेक्स सपोर्ट रद्द की जा रही है। मदल लाल खोसला की पत्नी सुदेश अंग्रेजी पढ़ नहीं सकती थीं, इसलिए जब मदन लाल घर वापस आये तो उन्हें वो पत्र दिखाया। पत्र पढ़ कर मदनलाल खोसला को आश्चर्य हुआ और गुस्सा आया। उन्होंने इसकी शिकायत की तो मैनचेस्टर सिटी काउंसिल ने, डिपार्टमेंट ऑफ वर्क्स एण्ड पेंशन पर दोष मढ़ दिया। आखिर में डिपार्टमेंट ऑफ वर्क्स एण्ड पेंशन न अपनी गलती मानी और माफी मांगते हुए अपने डाटा में करेक्शन किया।