मुंबई एयरपोर्ट पर 'फर्ज़ी' ई-टिकट के साथ घूम रहा शख्स गिरफ्तार

नई दिल्ली (17 फरवरी): ऐसा लगता है कि कुछ पैसेंजर्स एयरपोर्ट पर या तो अपनी सिक्योरिटी के लिए की गई व्यवस्था को गंभीरता से नहीं लेते। या उन्हें इसके परिणामों के बारे में जानकारी नही है। मुंबई एयरपोर्ट से ऐसा ही एक मामला सामने आया है। 

'मिड-डे' की रिपोर्ट के मुताबिक, एक शख्स अपने रिश्तेदारों को एयरपोर्ट पर छोड़ने के लिए आया था। लेकिन वह अपने साथ एक फर्जी एयर टिकिट लेकर आया था। मंगलवार को सुरक्षाकर्मियों ने इंटरनेशनल टर्मिनल पर उसे फर्जी टिकिट के साथ पकड़ लिया। उसे स्थानीय पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है।

इस शख्स का नाम माज़ अहमद है। अहमद ने 16 फरवरी को टर्मिनल टू में प्रवेश किया। वह अपने रिश्तेदार को छोड़ने के लिए आया था। वह उसे एयरपोर्ट परिसर से बाहर निकलना चाहता था। किसी तरह अहमद बाहर निकलने के लिए रास्ता पहचान नहीं पाया और एयरपोर्ट के सिटी साइड की तरफ चला आया। वह सुबह 3.45 बजे के आसपास एक्ज़िट गेट की तलाश कर रहा था, इसी बीच सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (सीआईएसएफ) के अधिकारी का ध्यान उसपर गया। अधिकारी को लगा कि वह बिना किसी मकसद के घूम रहा है। 

इसके बाद अधिकारी शक के चलते उसपर नज़र रखने लगे। अहमद को लेवेल थ्री (डोमेस्टिक डिपार्चर्स) के सैग्रीग्रेशन प्वाइंट पर देखा गया। तभी अहमद का पीछा किया जाने लगा। वेस्ट साइड सेग्रीगेशन प्वाइंट पर पहुंचने के बाद उसने ऑन-ड्यूटी पर्सन से कहा कि वह उड़ान भरना नहीं चाहता।

इसपर अधिकारी ने उसके ई-टिकिट की जांच की, जिसमें उसकी डिपार्टिंग फ्लाइट ईटी 611 लिखा था। गौरतलब है, अगर पैसेंजर टर्मिनल में अंदर आ जाता है और किसी कारण से अपनी यात्रा नहीं करना चाहता। तो उसे यात्रा रद्द कराने के लिए संबंधित एयरलाइन से एक स्टैंडर्ड प्रोसीजर से गुजरना होता है। अहमद को प्रक्रिया के तहत संबंधित एयरलाइन काउंटर पर ले जाया गया। लेकिन एयरलाइन ने पुष्टि की कि यह फर्जी टिकिट है।

जांच के दौरान अहमद ने स्वीकार किया कि उसने टर्मिनल में प्रवेश के लिए फर्जी ई-टिकिट का इस्तेमाल किया था। वह अपनी बहन और उसके बच्चों को सी-ऑफ करने आया था। अहमद को सहर पुलिस स्टेशन को सौंप दिया गया है। सहर पुलिस अधिकारी ने बताया, "हमने एक शख्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 465, 467, 471 और 420 के तहत मामला दर्ज किया है। "