भूल कर भी मत जाना इन जंगलों में आदमियों को मार खा जाती है ये जनजाति !

नई दिल्ली (24 मार्च): दुनियाभर के अलग-अलग हिस्सों में आज भी ऐसी कई जनजातियां मौजूद हैं, जो पूरी दुनिया के लिए किसी रहस्य से कम नहीं हैं। चाहे वो अफ्रीकन आदिवासी हों या फिर अमेजन की अलग-अलग जनजातियां। ऐसी ही एक रहस्यमय जनजाति इंडोनेशिया के पापुआ प्रांत के घने जंगलों में रहती है, जिनका नाम है कोरोवाई। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस जनजाति को नरभक्षी भी कहा जाता है। 


पहली बार एक डच मिशनरी ने इस जनजाति की खोज सन् 1974 में की थी, इससे पहले इनके बारे में कोई नहीं जानता था। इसके बाद यहां पर लोगों का आना-जाना बढ़ता चला गया, जिसकी वजह से 90 के दशक में यहां वेश्यावृत्ति भी बढ़ने लगी। हालांकि, सरकार की पहल के बाद 1999 में ये सबकुछ बंद हो गया।


लोगों के आने जाने के बावजूद भी इस जनजाति से जुड़े लोगों का बाहरी दुनिया से कोई संपर्क नहीं है। ये लोग जमीन से 6 से 12 मीटर ऊंचाई पर पेड़ों पर बने घरों में रहते हैं, ताकि इन पर कोई आक्रमण न कर सके और ये लोग बुरी आत्माओं से भी बचे रहें। इस जनजाति के लोग जीवनयापन करने के लिए शिकार करते हैं। इनका निशाना बहुत बेहतर होता है। बता दें कि कोरोवाई जनजाति जिस क्षेत्र में निवास करती है, वो अराफुरा सागर से तकरीबन 150 किमी की दूरी पर स्थित है। इन लोगों पर कई डॉक्युमेंट्री भी बनाई गई है। ऐसा कहा जाता है कि इस जनजाति के लोग अंधविश्वास को बहुत मानते हैं, जिसकी वजह से इंसानों को भी मारकर खा जाते हैं।