मां के शव को बाइक पर ले जाने को मजबूर हुए बेटे

इंदौर (1 सितंबर): एक बार फिर व्यवस्था के कारण इंसानियत को शर्मसार होना पड़ा है। मध्यप्रदेश के सिवनी में एक बेटे को अपनी मां की लाश 12 किमी तक बाइक पर ढोनी पड़ी।

उल्ट गांव के आदिवासी भीमराव नगपुरे की मां पार्वताबाई पहले से बीमार थीं। मंगलवार सुबह उनकी तबीयत खराब होने पर एंबुलेंस बुलाई, लेकिन नहीं पहुंची। मां की बिगड़ती हालत देखकर दोनों बेटे घबरा गए। गांव से अस्पताल की दूरी काफी होने पर एक बाइक उधार मांगी और इससे मां को लेकर अस्पताल के लिए निकल पड़े।

लेकिन महिला ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। बेटे शव को लेकर गांव लौटने लगे तो 12 किमी के बाद बाइक खराब हो गई। इस दौरान लोगों ने एंबुलेंस बुलवा ली, लेकिन ड्राइवर ने शव को उलट गांव ले जाने से मना कर दिया।