खुलासा! मांझी ने इसलिए 10 किमी ढोई पत्नी की लाश

भुवनेश्वर (27 अगस्त): दाना मांझी द्वारा पत्नी की लाश ढोते हुई तस्वीर ने पूरे देश में हलचल मचा कर रख दी। कालांहडी के भवानीपुरा के हॉस्पिटल में दाना माझी को अपनी पत्नी की लाश ढोने के लिए एंबुलेंस न मिलने पर सिस्टम की भी खूब आलोचना हुई।

तस्वीर के सामने आने के बाद जांच के आदेश दिए गए, विरोध-प्रदर्शन किए गए और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाए जाने का आश्वासन भी दिए गए। लेकिन अब खुद उस शख्स ने सामने आकर कहा है कि उसने किसी से मदद नहीं मांगी थी। उसने कहा कि उसकी हालत उस वक्त बहुत दयनीय थी और उसे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए।

माझी ने बताया कि उसने खुद किसी से मदद नहीं मांगी थी। उसने हॉस्पिटल प्रशासन को भी सूचित नहीं किया था और अपनी पत्नी की लाश लेकर वह चुपचाप निकल पड़ा था। यहां तक कि उसने गांव तक पत्नी के शव को ले जाने के लिए भी किसी ग्रामीण से भी मदद नहीं मांगी थी। जब मुझे पता चला कि अब वह जीवित नहीं बची है तो मैं बिना किसी को कुछ बताए शव को ले जाने लगा। उस वक्त फीमेल वार्ड में कोई अटेंडेंट मौजूद नहीं था इसलिए मैंने खुद ही शव को घर तक कंधे पर ले जाने का फैसला किया।

पत्नी की मौत के बाद मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था और मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए। मैंने हॉस्पिटल से भी अपनी पत्नी के शव को ले जाने के लिए वाहन की मांग नहीं की थी।