ममता की फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग करवाने पर 6 पायलेट सस्पेंड

नई दिल्ली(7 दिसंबर): पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की इंडिगो फ्लाइट को ईंधन की कमी की वजह से बीच में ही लैंड करवा दिया गया था। इस मामले में डीजीसीए ने मंगलवार को 6 पायलेटों को बर्खास्त कर दिया।

- इसमें इंडिगो, स्पाइसजेट और एयरइंडिया के 2-2 पायलेट शामिल हैं। पिछले दिनों पटना से कोलकाता जा रही ममता बनर्जी की इंडिगो फ्लाइट के आगे एयर इंडिया और स्पाइसजेट की उड़ाने थी। मगर इन उड़ानों में फ्यूल की कमी की वजह से इमरजेंसी लैंडिंग करवानी पड़ी थी। ईंधन की कमी से हुई इस इमरजेंसी लैंडिंग को ममता बनर्जी ने एक साजिश बताया था। इस मुद्दे ने संसद में राजनैतिक विवाद का रूप ले लिया था।

- सूत्रों के अनुसार डीजीसीए ने सभी एयरलाइन को सख्त चेतावनी दी है। नियामक कार्रवाई में एयरलाइन्स को सर्दी के मौसम में पर्याप्त ईंधन रखने को कहा है क्योंकि इस मौसम में कम विजिब्लिटी की वजह से कई उड़ानों के मार्ग बदलने पड़ते हैं। एयरइंडिया के प्रवक्ता ने बताया कि डीजीसीए ने इन पायलेटों फिर से ट्रेनिंग करने के निर्देश दिए हैं। स्पाइसजेट ने भी इस बात की पुष्टि की है वहीं इंडिगो ने पिछले सप्ताह ही एक बयान जारी किया था कि इमरजेंसी लैंडिंग करवाने वाला पायलेट हर तरह की पूछताछ के लिए उपलब्ध रहेगा। ये तीनों ही एयरलाइन पायलेटों को बर्खास्त किए जाने से नाराज है।

- इन एयरलाइन्स ने कहा है कि उनके पायलेटों को सूचना दी गई थी कि कोलकाता के लिए ईंधन का खतरा मंडरा रहा है। इसका मतलब यही था कि एयरइंडिया, इंडिगो और स्पाइसजेट के बोइंग 737 को भुवनेश्वर को वैकल्पिक एयरपोर्ट के रूप में इस्तेमाल करना पड़ेगा। जब भी कोई विमान उड़ान भरता है तो उसके अंदर मंजिल तक पहुंचने के अलावा 30 मिनट ज्यादा उडऩे तक का ईंधन डाला जाता है। अगर विमान कहीं डायवर्ट किया जाता है तो ये अतिरिक्त ईंधन काम आता है। एयरलाइन्स का कहना है कि उनके विमानों में पर्याप्त मात्रा में ईंधन था। मगर उन्हे कोलकाता में कम ईंधन होने के संकेत मिले थे। इंडिगो के अनुसार ये कंफ्यूजन पायलेटों और कोलकाता एयर ट्रैफिक कंट्रोल के बीच कम्यूनिकेशन गैप की वजह से हुआ था।