3 तलाक बिल पर समर्थन में हैं हम, लेकिन सरकार जल्दी में थी: मल्लिकार्जुन खड़गे

नई दिल्ली ( 28 दिसंबर ): लोकसभा ने गुरुवार को लंबी बहस के बाद आखिरकार ऐतिहासिक मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक-2017 पास हो गया। केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी अपनी मेज थपथपाकर खुशी जाहिर की।

कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों की ओर से तीन तलाक विरोधी बिल को स्टैंडिंग कमिटी में भेजने की मांग की जा रही थी। लेकिन सरकार ने बिल को स्टैंडिंग कमिटी में भेजने की विपक्षी की मांग को खारिज कर दिया। इसके बाद सरकार ने इसे लोकसभा से ध्वनिमत से पारित करा लिया है। अब यह विधेयक राज्यसभा में मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। इस बीच लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी इस बिल का समर्थन किया है। हालांकि उन्होंने इसमें कुछ संशोधनों की भी मांग की है।

उन्होंने कहा, 'यह एक प्रोग्रेसिव बिल है, सभी पार्टियां इसका समर्थन करती हैं। लेकिन हम कुछ संशोधन चाहते हैं, इसलिए हमारी यह मांग थी कि इसे स्टैंडिंग कमिटी को सौंपा जाए। लेकिन वह बिल को पास करने के लिए हड़बड़ी में थे।' 

खड़गे ने कहा कि हमारी पार्टी राज्यसभा में आगे के कदम उठाएगी और सरकार द्वारा पैदा किए गए संशयों को कम करने की कोशिश करेगी। बता दें कि उच्च सदन में मोदी सरकार अल्पमत में है। ऐसे में उसे विपक्षी दलों को मनाने के लिए संशोधनों पर राजी होना पड़ सकता है।