मृणालिनी साराभाई के निधन पर शोक नहीं जताने के लिए पीएम मोदी की आलोचना

 

नई दिल्ली (22 जनवरी) :  सामाजिक कार्यकर्ता-नृत्यांगना मल्लिका साराभाई ने अपनी मां और प्रख्यात भरतनाट्यम नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई के निधन पर शोक नहीं व्यक्त करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की है। मृणालिनी साराभाई का गुरुवार को 97 वर्ष की उम्र में अहमदाबाद में निधन हुआ था।

मल्लिका साराभाई ने अपने फेसबुक पेज पर इस संदर्भ में पोस्ट लिखी है। मल्लिका ने लिखा- "मेरे प्रिय प्रधानमंत्री। आप मेरी राजनीति से और मैं आपकी राजनीति से घृणा करती हूं। लेकिन इसका इस बात से कोई लेनादेना नहीं है कि मृणालिनी साराभाई ने देश की संस्कृति को दुनिया में प्रोत्साहन देने के लिए 60 साल तक क्या किया। उन्होने दुनिया में हमारी संस्कृति को पहचान देने का काम किया। उनकी मौत पर आपका एक शब्द भी नहीं कहना आपकी मानसिकता को दिखाता है। आप मुझसे कितनी भी घृणा करते हों, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री के नाते उनके योगदान को आपको पहचानना चाहिए था। आपने नहीं किया।"

17 hrs · 
My dear prime minister You hate my politics and I hate yours. That has nothing to do with what Mrinalini Sarabhai did to promote the culture of this country to the world over sixty years. She blazed a trailer for our culture in the world. That her death sees no word from you shows your mentality. How ever much you hate me, as our prime minister it behove you to recognise her contribution. You have not. Shame on you

बता दें कि मल्लिका साराभाई 2002 में गुजरात हिंसा को लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री होने के नाते नरेंद्र मोदी की मुखर विरोधी रही हैं।

मृणालिनी साराभाई पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित नृत्यांगना थीं। उनका विवाह भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक माने जाने वाले डॉ विक्रम साराभाई के साथ हुआ था। उन्होंने नृत्य, ड्रामा, संगीत और कठपुतली विधाओं को बढ़ावा देने के लिए दर्पण एकेडमी ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स की स्थापना की थी।