मलिंगा ने मंत्री को सुनाई खरी-खरी, लगा प्रतिबंध

नई दिल्ली (29 जून): टीम इंडिया के स्पिनर और आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी सायमन्ड्स के बीच विवादों से भरा मंकी गेट कांड तो आपको याद होगा ही। एक बार फिर कुछ इसी तरह का वाक्या श्रीलंकाई क्रिकेट में हुआ है। चैंपियंस ट्रॉफी में हार पर लंका के खेलमंत्री दयासिरी जयासेकारा ने टीम की कड़ी आलोचना की थी।


मंत्री जी ने लसिथ मलिंगा को मोटा तक कह दिया था। तेज़ गेंदबाज़ लसिथ मलिंगा को ये बात हज़म नहीं हुई और उन्होंने खेलमंत्री पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी। मलिंगा ने दयासिरी को जवाब देते हुए कब हद पार दी, ये उन्हें खुद नहीं पता चला।


मलिंगा ने कहा, ''मुझे ऐसे लोगों की आलोचनाओं से कोई फर्क नहीं पड़ता जो केवल बैठकर अपनी कुर्सियां गर्म कर रहे हैं। एक बंदर को तोते के घोंसले के बारे में क्या पता होगा? ऐसा लग रहा है कि एक बंदर तोते के घोंसले में ही बैठकर उसी घोंसले के बारे में बोल रहा हो।''


मलिंगा के इस बयान के बाद श्रीलंकाई बोर्ड ने तीन सदस्यों का पैनल बनाया था। मलिंगा इस समिति के सामने पेश हुए और उन्होंने अपनी गलती मान ली। मलिंगा पर एक साल का प्रतिबंध और अगले वनडे मैच फीस का 50 प्रतिशत जुर्माना लगाया है। प्रतिबंध 6 महीने तक निलंबित रहेगा और यदि मलिंगा इस दौरान फिर से इसका उल्लंघन किया तो पूरे साल का बैन उन्हें झेलना होगा।


आमतौर पर शांत रहने वाले मलिंगा को इतना गुस्सा क्यों आया इसका जवाब इसका जवाब तो सिर्फ उन्हीं के पास है, लेकिन आईपीएल में भारतीय खिलाड़ियों से मलिंगा के संबंध हमेशा से अच्छे रहे हैं और विवादों से भी वो दूर ही रहते हैं।