'महिषासुर जयंती' पर डिबेट कराने वाली टीवी एंकर को जान से मारने की धमकियां

नई दिल्ली (1 मार्च) :  मलयालम टीवी चैनल 'एशियानेट न्यूज़ टीवी' की चीफ को-ऑर्डिनेटिंग एडिटर और एंकर सिंधू सूर्याकुमार ने शुक्रवार को ये डिबेट शो कराया था कि क्या 'महिषासुर जयंती' मनाना 'देशद्रोह' है। इस शो के बाद से सिंधू को धमकियां मिल रही हैं। उनके पास 200 के करीब फोन कॉल आ चुके है।

डीएनए की रिपोर्ट के मुताबिक सिंधू का आरोप है कि शो के बाद उनके पास कट्टरपंथी हिंदू संगठनों से जुड़े लोगों ने उसे फोन कर प्रॉस्टिटयूट तक कहा। इन संगठनों का आरोप है कि सिंधू ने अपने शो के दौरान दुर्गा के लिए आपत्तिजनक शब्द का प्रयोग किया।  सिंधू ने कहा कि मुझे हर मिनट पर एक कॉल आ रहा था। एक कॉलर ने मुझसे पूछा कि क्या मैं खुद को दुर्गा समझती हूं? सिंधू की शिकायत के बाद केरल पुलिस ने सोमवार को इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया। 

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक पैम्फलेट के शब्दों को टीवी डिबेट के दौरान बीजेपी के राज्य सचिव वी वी राजेश ने पढ़ते हुए दोहराया था।

दरअसल, मानव संसाधन मंत्री  स्मृति ईरानी ने हैदराबाद में खुदकुशी करने वाले कथित दलित स्टूडेंट रोहित वेमुला पर पिछले गुरुवार संसद में बयान दिया था, जिसमें एचआरडी मिनिस्टर ने जेएनयू में मनाई गई महिषासुर जयंती का एक पेम्फलेट भी पढ़कर सुनाया था। इस पेम्फलेट में देवी दुर्गा के बारे में कुछ आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया था। पुलिस के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक, गिरफ्तार लोग बीजेपी, आरएसएस और श्री राम सेना से जुड़े हुए हैं। एक शख्स ने पूछताछ में माना है कि उसे सिंधू का नंबर वॉट्सऐप ग्रुप के जरिए मिला था। इनमें से एक मेंगलौर के पब अटैक केस (2009) में भी आरोपी रह चुका है। सिंधू का आरोप है कि बीजेपी ने प्रेस की आजादी के पक्ष में एक बयान जारी कर चुप्पी साध ली है। वहीं, पुलिस का कहना है कि वो उस शख्स की तलाश कर रही है जिसने सबसे पहले सिंधू के बारे में फेसबुक पर पोस्ट किया था।