ट्रंप के 7 मुस्लिम देशों पर बैन लगाने से दुखी हैं मलाला

नई दिल्ली(29 जनवरी): नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित और मूल रूप से पाकिस्तान की रहने वालीं मलाला यूसुफजई ने शरणार्थियों को लेकर अमेरिका की नई नीतियों पर दुख जताया है।

- मलाला का कहना है कि शरणार्थियों को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जो आदेश जारी किए हैं वह अत्यंत दुखद हैं।

- मलाला ने कहा, 'मैं अत्यंत दुखी हूं कि राष्ट्रपति ट्रंप हिंसा और युद्धग्रस्त देशों को छोड़कर भाग रहे बच्चों, माताओं और पिताओं के लिए दरवाजे बंद कर रहे है।'

- ट्रंप द्वारा आदेश पर हस्ताक्षर करने के कुछ देर बाद मलाला ने एक बयान में कहा, 'दुनियाभर में अनिश्चितता और अशांति के इस समय में, मैं 

राष्ट्रपति ट्रंप से अनुरोध करती हूं कि वह विश्व के सबसे असहाय और असुरक्षित परिवारों को अकेला ना छोड़ें।'

- 19 वर्षीय मलाला नोबेल पुरस्कार पाने वाली सबसे कम उम्र की विजेता हैं।